CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon


Question

Developing nations and the third world countries are striving to improve the quality of life and standard of life of their citizens. This quest is fraught with severe and adverse consequences for the global environment if they do not adopt sustainable practices. Their share of the world economy is showing an increasing trend. Global actions to mitigate environmental impact of economic growth will necessarily have to factor in their legitimate aspirations.

Advanced nations cannot expect the developing world to slam the brakes on their quest for a better quality of life for their citizens on grounds of sustainability. The world has to find way of reconciling the needs of nations for improving their economies while working towards sustainability.

Developed nations passed through stages of urbanization, deforestation, growth of extractive industries like mining and mechanization before reaching their current stage of development. If they did not mine in their own countries, they accessed metals and energy from their colonies or through commerce. For instance, a blanket ban or mining of coal, iron ore or strategic minerals is not a feasible option in India. Our per capita consumption of steel, aluminium and energy is very low and has to increase if we have to improve the living standards of our people. To achieve this, India has to make trade-offs and hard choices. The bottom line is that production of any engineered product or service consumes energy and natural resources. It is not physically possible to make anything which uses up zero resources and is energy neutral. The best one can hope for is to minimize resource use and reduce waste.

Q48. According to the passage, which of the following is/are the challenges that countries like India face in improving the life of its citizens?
1. Increasing the consumption of steel, aluminium and energy.
2. To minimize resource utilization and reduce wastage.
3. Tough decision making to balance legitimate aspirations with mitigation of environmental impact.
Select the correct answer using the code given below:

विकासशील राष्ट्र एवं तृतीय विश्व अपने-अपने नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता और जीवन के मानक को बेहतर करने का प्रयास कर रहे हैं। यदि वे संवहनीय अभ्यासों को नहीं अपनाते हैं तो वैश्विक जलवायु के लिए यह अन्वेषण गंभीर और प्रतिकूल परिणामों से भरा हुआ होगा। विश्व अर्थव्यवस्था में उनका हिस्सा वर्धमान प्रवृत्ति दर्शा रहा है। आर्थिक विकास के पर्यावरणीय प्रभाव की गंभीरता कम करने हेतु वैश्विक कार्यवाहियों में उनकी वैध आकांक्षाएं अनिवार्यत: शामिल होनी चाहिए।

उन्नत राष्ट्र, विकासशील विश्व से यह अपेक्षा नहीं कर सकते हैं कि संवहनीयता के आधार पर उनके नागरिकों के जीवन की बेहतर गुणवत्ता हेतु उनके अन्वेषण पर दबावयुक्त ब्रेक लगाएँ। विश्व को राष्ट्रों द्वारा अपने आर्थिक दशा में सुधार एवं संवहनीयता के लिए कार्य करने को मिलानेवाला रास्ता ढुंढना होगा।

विकसित राष्ट्रों ने विकास को वर्तमान स्तर तक पहुँचने से पूर्व शहरीकरण, निर्वनीकरण, खदानों और मशीनीकरण जैसे निकासी उद्योगों की वृद्धि के स्तरों से गुजर चुके हैं। यदि उन्होंने अपने-अपने देशों में खदान-कार्य नहीं किया, तो उन्होंने उनके औपनिवेशों या वाणिज्य के माध्यम से धातुओं और ऊर्जा तक पहुँच बनाया। दृष्टांत के लिए कोयला, लौह अयस्क या रणनीतिक खनिज पदार्थों के खनन पर पूर्ण पाबंदी भारत में व्यवहार्य विकल्प नहीं है। इस्पात, एल्युमीनियम और ऊर्जा की हमारी प्रति व्यक्ति खपत बहुत कम है और इसे बढ़ाना है, यदि हमें अपने लोगों के जीवन के मानक सुधारने हैं। इसे प्राप्त करने हेतु भारत को समझौता करना और कठिन विकल्प अपनाने होंगे। आधारभूत बात यह है कि किसी भी इंजीनियरिंग उत्पाद या सेवा के उत्पादन में ऊर्जा एवं प्राकृतिक संसाधनों की खपत होगी ही। भौतिक रूप से वैसी वस्तु बनाना संभव नहीं है, जो शून्य संसाधनों का उपयोग करती हो और ऊर्जा तटस्स्थ हो। संसाधनों का कम उपयोग तथा अपशिष्ट कम करना ही सबसे अच्छा उम्मीद हो सकता है।

Q. परिच्छेद के अनुसार, भारत जैसे देशों को उनके नागरिकों के जीवन बेहतर करने में निम्नलिखित चुनौतियों में से कौन-सी चुनौती/चुनौतियों का सामना करना पड़ता है?
1. इस्पात, अल्युमीनियम और ऊर्जा की खपत बढ़ाना।
2. संसोधन का कम उपयोग और अपशिप्ट कम करना।
3. पर्यावरणीय प्रभाव के शमन के साथ वैध आकांक्षाओं को संतुलित करने हेतु कठोर निर्णय लेना।
नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए:


A
All of the above

उपर्युक्त सभी
loader
B
Only 1 and 2

केवल 1 और 2
loader
C
Only 2

केवल 2
loader
D
Only 2 and 3

केवल 2 और 3
loader

Solution

The correct option is A All of the above

उपर्युक्त सभी
All of the statements are mentioned as possible issues that the developing countries must tackle

सभी कथन संभावित मुद्दों के रूप में उल्लिखित है, जिन्हें विकासशील देशों को निपटना चाहिए।

All India Test Series

Suggest Corrections
thumbs-up
 
0


similar_icon
Similar questions
View More



footer-image