CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon


Question

Q. Consider the following pairs:

Painting Region
1. Pahari Jammu and Kashmir
2. Kalighat West Bengal
3. Madhubani Orissa 

Which of the pairs given above is/are correctly matched?

Q. निम्नलिखित युग्मों पर विचार करें:

चित्रकला क्षेत्र
1. पहाड़ी जम्मू और कश्मीर
2. कालीघाट पश्चिम बंगाल
3. मधुबनी उड़ीसा

उपरोक्त युग्मों में कौन सा/से सही सुमेलित है/हैं?



A

1 only
केवल 1
loader
B

1 and 2 only
केवल 1 और 2
loader
C

1 and 3 only
केवल 1 और 3 
loader
D

2 only
केवल 2
loader

Solution

The correct option is B
1 and 2 only
केवल 1 और 2

Explanation:

Pair 1 is correctly matched:

Pahari painting is the name given to Rajput paintings, made in Himachal Pradesh and Jammu & Kashmir states of India. These paintings developed and flourished during the period of 17th to 19th century. Indian Pahari paintings have been done mostly in miniature forms. Pahari paintings have been widely influenced by the Rajput paintings, because of the family relations of the Pahari Rajas with the royal court at Rajasthan. One can also see the strong influence of the Gujarat and Deccan paintings. With the emergence of the Bhakti movement, new themes for Indian Pahari paintings came into practice. The Shaiva-Shakta themes were supplemented by argot poetry and folk songs of Lord Krishna and Lord Rama. At the same time, the themes of the paintings revolved around love and devotion also. There was also illustration of great epics, puranas, etc. The depiction of Devi Mahatmya manuscript painted at Kangra, in 1552, has been much acclaimed. There  are two types of pahari painting such as  Basohli Paintings and  Bilaspur Paintings.

Pair 2 is correctly matched:

Kalighat painting was a product of the urban society of the nineteenth century of calcutta.With the growing importance of the Kalighat temple as a pilgrimage centre in the then British capital,calcutta, a group of artists from the traditional patua and other artisan communities evolved a quick method of painting on mill-made paper.Using brush and ink from the Lampblack,these artists defined figures of deities ,gentry and ordinary people with deft and vigorously flowing lines.There were romantic depictions of women. There were satirical paintings lampooning the hypocrisies of the newly rich and the changing roles of men and women after the introduction of education for women. 

Pair 3 is incorrectly matched:

Madhubani painting is one of the many famous Indian art forms. As it is practiced in the Mithila region of Bihar and Nepal, it is called Mithila or Madhubani art. Often characterized by complex geometrical patterns, these paintings are known for representing ritual content for particular occasions, including festivals, religious rituals, etc. The colors used in Madhubani paintings are usually derived from plants and other natural sources. These colors are often bright and pigments like lampblack and ochre are used to create black and brown respectively. Instead of contemporary brushes, objects like twigs, matchsticks and even fingers are used to create the paintings.

व्याख्या:

युग्म 1 सही सुमेलित है: 

पहाड़ी पेंटिंग राजपूत पेंटिंग को दिया गया नाम है, जो हिमाचल प्रदेश और भारत के जम्मू तथा कश्मीर राज्यों में बनायीं जाती  है।यह पेंटिंग 17 वीं से 19 वीं शताब्दी की अवधि में पनपी और विकसित हुई।भारतीय पहाड़ी चित्रों को ज्यादातर लघु शैली में बनाया जाता है।राजस्थान के शाही दरबार के साथ पहाड़ी राजाओं के पारिवारिक संबंधों के कारण, पहाड़ी पेंटिंग पर राजपूत पेंटिंग का व्यापक प्रभाव पड़ा।इस पर गुजराती और दक्कन शैली का भी प्रभाव देखा जा सकता है।भक्ति आंदोलन के उदभव के साथ, भारतीय पहाड़ी पेंटिंग के नए विषय-वस्तु प्रचलन में आए।शैव-शाक्त विषयों को भगवान कृष्ण और भगवान राम के प्रसिद्ध काव्य और लोकगीतों द्वारा पूरकता दी जाती थी।इसी समय, चित्रों के विषय में प्रेम और भक्ति को भी शामिल किया गया।महान महाकाव्यों, पुराणों आदि का भी चित्रण किया गया।1552 में कांगड़ा में चित्रित देवी महात्म्य पांडुलिपि के चित्रण को बहुत सराहा गया है।पहाड़ी पेंटिंग की दो शैली है:बसोहली पेंटिंग और बिलासपुर पेंटिंग।

युग्म 2 सही सुमेलित है:

कालीघाट पेंटिंग उन्नीसवीं शताब्दी के कलकत्ता के शहरी समाज की कृति थी।तत्कालीन ब्रिटिश राजधानी, कलकत्ता में एक तीर्थस्थल के रूप में कालीघाट मंदिर के बढ़ते महत्व के साथ, पारंपरिक पटुआ और अन्य कारीगर समुदायों के कलाकारों के एक समूह ने मिल-निर्मित कागज पर पेंटिंग का एक त्वरित तरीका विकसित किया।लैम्पब्लेक से ब्रश और स्याही का उपयोग करते हुए, इन कलाकारों ने देवता, भद्र और साधारण लोगों की छवियों को उकेरा। इनमें महिलाओं के रोमांटिक चित्रण भी थे।महिलाओं के लिए शिक्षा की शुरुआत के बाद नव धनाढ्यों और पुरुषों तथा महिलाओं की बदलती भूमिकाओं को व्यक्त करते हुए व्यंग्य चित्र थे।

युग्म 3 सुमेलित नहीं है:

मधुबनी पेंटिंग कई प्रसिद्ध भारतीय कला रूपों में से एक है।यह बिहार और नेपाल के मिथिला क्षेत्र में प्रचलित है।इसे मिथिला या मधुबनी कला कहा जाता है।अक्सर जटिल ज्यामितीय संरचनाएं इसकी विशेषता होती है, इन चित्रों को त्योहारों, धार्मिक अनुष्ठानों आदि सहित विशेष अवसरों पर बनाया जाता है।मधुबनी चित्रों में प्रयुक्त रंग आमतौर पर पौधों और अन्य प्राकृतिक स्रोतों से लिए जाते हैं।ये रंग अक्सर चमकीले होते हैं और क्रमशः लैम्ब्लैक और गेरू जैसे रंजक काले और भूरे रंग बनाने के लिए उपयोग किए जाते हैं।समकालीन ब्रश के बजाय, चित्र बनाने के लिए टहनियाँ, माचिस और यहाँ तक कि उंगलियाँ का उपयोग किया जाता है।


All India Test Series

Suggest Corrections
thumbs-up
 
0


similar_icon
Similar questions
View More



footer-image