CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon
MyQuestionIcon
Question

Q. Consider the following statements with reference to Kigali Agreement:

1. It amends Kyoto Protocol.
2. It is legally binding and came into force from January 1, 2019.
3. Under the agreement, all parties have to reduce use of Hydrofluorocarbons (HFCs) by 85 percent by 2036.

Which of the above given statements are incorrect?

Q. किगाली समझौते के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:

1. यह क्योटो प्रोटोकॉल में संशोधन करता है।
2. यह कानूनी रूप से बाध्यकारी है और 1 जनवरी, 2019 से प्रभावी है।
3. समझौते के तहत, सभी पक्षों को 2036 तक हाइड्रोफ्लोरोकार्बन (एचएफसी) के उपयोग को 85 प्रतिशत तक कम करना होगा।

ऊपर दिए गए कथनों में कौन से गलत हैं?

A

1 and 2 only
केवल 1 और 2
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
B

2 and 3 only
केवल 2 और 3
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
C

1 and 3 only
केवल 1 और 3
Right on! Give the BNAT exam to get a 100% scholarship for BYJUS courses
D

1, 2 and 3
1, 2 और 3
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
Open in App
Solution

The correct option is C
1 and 3 only
केवल 1 और 3
Explanation:

Statement 1 is incorrect:
The Montreal Protocol is the most effective international environmental treaty to phase out the Ozone Depleting Substances (ODSs) from the atmosphere. Kigali agreement is an amendment to Montreal Protocol (not Kyoto protocol). The amendment aims to reduce emission of Hydrofluorocarbons.

Statement 2 is correct: The Kigali Amendment to the Montreal Protocol is legally binding and will come into force from January 1, 2019.

Statement 3 is incorrect: Countries are divided in three groups, as per their phase down schedules to freeze and reduce production of HFCs. The developed countries, led by the US and Europe, will reduce HFC use by 85 per cent by 2036 over a 2011-13 baseline. China, which is the largest producer of HFCs in the world, will reduce HFC use by 80 per cent by 2045 over the 2020-22 baseline. India will reduce the use of HFCs by 85 per cent over the 2024-26 baseline.

व्याख्या:

कथन 1 गलत है:
मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल वातावरण से ओजोन को नुकसान पहुँचाने वाले पदार्थ (ओडीएस) को चरणबद्ध तरीके से हटाने के लिए सबसे प्रभावी अंतर्राष्ट्रीय पर्यावरण संधि है।किगाली समझौता मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल (क्योटो प्रोटोकॉल में नहीं) में एक संशोधन है।संशोधन का उद्देश्य हाइड्रोफ्लोरोकार्बन के उत्सर्जन को कम करना है।

कथन 2 सही है: मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के लिए किगाली संशोधन कानूनी रूप से बाध्यकारी है और 1 जनवरी, 2019 से प्रभावी हो गया है।

कथन 3 गलत है:एचएफसी के उत्पादन को स्थिर करने और चरणबद्ध तरीके से इसे कम करने के लिए देशों को तीन समूहों में विभाजित किया गया है।अमेरिका और यूरोप के नेतृत्व में विकसित देश, 2011-13 के बेसलाइन पर 2036 तक एचएफसी के उपयोग को 85 प्रतिशत कम कर देंगे।चीन, जो कि विश्व में एचएफसी का सबसे बड़ा उत्पादक है, 2020-22 के बेसलाइन पर 2045 तक एचएफसी के उपयोग को 80 प्रतिशत कम कर देगा। भारत 2024-26 के बेसलाइन पर एचएफसी के उपयोग में 85 प्रतिशत की कमी करेगा।

flag
Suggest Corrections
thumbs-up
0
BNAT
mid-banner-image
similar_icon
Similar questions
Q. Q. Consider the following statements with reference to the Kigali Amendment to the Montreal Protocol, which was recently in news:Which of the statements given above is/are correct?

Q. हाल ही में समाचारों में रहे मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल में किगाली संशोधन के संदर्भ में, निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:
  1. यह देशों पर अनिवार्य हाइड्रोफ्लोरोकार्बन (HFC) कमी के लक्ष्य के साथ कानूनी रूप से बाध्यकारी है।
  2. भारत मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के तहत चरणबद्ध रूप से सभी ओजोन क्षयकारी पदार्थों को हटाने के लक्ष्यों को पूरा करने के बाद वर्ष 2032 से HFCs को चरणबद्ध रूप से हटाना शुरू करेगा।
  3. वर्तमान में, विकसित देश विकासशील देशों की तुलना में अधिक HFCs की खपत करते हैं।
उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. 1 only
    केवल 1

  2. 2 only
    केवल 2

  3. 2 and 3 only
    केवल 2 और 3

  4. 1 and 3 only
    केवल 1 और 3
View More