CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon


Question

Q. ISRO is developing a methane-powered rocket engine. With respect to it, consider the following statements: Select the correct answer using the code given below:

Q. ISRO एक मिथेन-संचालित रॉकेट इंजन विकसित कर रहा है। इस संबंध में, निम्नलिखित कथनों पर विचार करें: नीचे दिए गए कूट का उपयोग करके सही उत्तर चुनें:


A

1 only
केवल 1
loader
B

2 only
केवल 2
loader
C

Both 1 and 2
1 और 2 दोनों
loader
D

Neither 1 nor 2
न तो 1 न ही 2
loader

Solution

The correct option is C
Both 1 and 2
1 और 2 दोनों
Explanation:

Indian space agency, ISRO, is developing methane-powered rocket engines, in its endeavour to develop cutting-edge technologies at par with the world's best.

Statement 1 is correct:  Methane  is often described as the space fuel of the future. It can be synthesised with water and carbon dioxide in space reducing the need to carry fuel boosters.

Statement 2 is correct:  All hydrazine-based fuels are said to be highly toxic and cancer-causing. Globally, governments are keen on banning hydrazine. Apart from being non-toxic, it is easy to store, does not leave a residue upon burning.

Note: Methane-fired engines need an igniter to start the fire. Hydrazine fuels are hypergolic, which means they start burning on their own upon coming in contact with oxygen.

व्याख्या:

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (ISRO), दुनिया की सर्वश्रेष्ठ व अत्याधुनिक तकनीकों को विकसित करने के अपने प्रयास के तहत मीथेन-संचालित रॉकेट इंजन विकसित कर रहा है।

कथन 1 सही है: मीथेन को अक्सर भविष्य के अंतरिक्ष ईंधन के रूप में वर्णित किया जाता है।यह अंतरिक्ष में पानी और कार्बन डाइऑक्साइड के साथ संश्लेषित किया जा सकता है जो ईंधन बूस्टर ले जाने की आवश्यकता को कम करता है।

कथन 2 सही है: कहा जाता है कि सभी हाइड्रेज़िन-आधारित ईंधन अत्यधिक विषैले और कैंसर पैदा करने वाले होते हैं।विश्व स्तर पर, सरकारें हाइड्रेज़िन पर प्रतिबंध लगाने की इच्छुक हैं।गैर विषैला होने के अलावा, इसे स्टोर करना आसान है और यह जलने पर कोई अवशेष नहीं छोड़ता है।

नोट : मीथेन से चलने वाले इंजनों को सक्रिय होने के लिए एक प्रज्वलक की आवश्यकता होती है।हाइड्रेंजाइन ईंधन हाइपरगोलिक हैं, जिसका अर्थ है कि वे ऑक्सीजन के संपर्क में आने पर अपने आप जलने लगते हैं।

All India Test Series

Suggest Corrections
thumbs-up
 
0


similar_icon
Similar questions
View More



footer-image