CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon


Question

Q. Which of the following is/are part of the Organised Indian Money Market?
  1. Commercial papers.
  2. Treasury bills.
  3. Participatory notes.
  4. Mutual funds.
  5. Call money.
Select the correct answer using the codes given below:

Q. निम्नलिखित में से कौन सा/से संगठित भारतीय मुद्रा बाजार का हिस्सा है/हैं?
  1. वाणिज्यिक पत्र
  2. ट्रेजरी बिल
  3. पार्टिसिपेटरी नोट
  4. म्यूचुअल फंड्स
  5. कॉल मनी
निम्नलिखित कूट का प्रयोग कर सही उत्तर का चुनाव कीजिए:

  1. 2 and 4 only
    केवल 2 और 4

  2. 1, 2, 4 and 5 only
    केवल 1, 2, 4 और 5

  3. 3, 4 and 5 only
    केवल 3, 4 और 5

  4. 1, 3 and 5 only
    केवल 1, 3 और 5


Solution

The correct option is B
1, 2, 4 and 5 only
केवल 1, 2, 4 और 5
Explanation:

Money markets are used for short-term lending or borrowing; usually the assets are held for one year or less whereas, Capital Markets are used for long-term securities that have a direct or indirect impact on the capital. Capital markets include the equity market and the debt market.

The organized money market is that part that comes under the regulatory ambit of RBI & SEBI. The following are components of the Indian money market:
  • Treasury Bills
  • Call Money
  • Certificate of Deposit
  • Commercial Bills
  • Commercial Papers
  • Mutual Funds
  • Repo and Reverse Repo Markets.
  • Cash Management Bill
A participatory note, commonly known as a P-note, is an instrument issued by a registered foreign institutional investor (FII) to an overseas investor who wishes to invest in Indian stock markets without registering themselves with the market regulator, the Securities and Exchange Board of India (SEBI). It is not part of an organised money market.

व्याख्या:

मुद्रा बाजार का उपयोग अल्पकालिक ऋण के लिए किया जाता है; आमतौर पर ऐसी संपत्ति को एक वर्ष या उससे कम समय के लिए जारी किया जाता है, जबकि पूंजी बाजार का उपयोग लंबी अवधि की प्रतिभूतियों के लिए किया जाता है, जिसका वित्त पर प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष प्रभाव होता है। पूंजी बाजार में इक्विटी बाजार और ऋण बाजार शामिल होते हैं।

संगठित मुद्रा बाजार RBI और SEBI के विनियामक दायरे में आता है। भारतीय मुद्रा बाजार के घटक निम्नलिखित हैं:
  • ट्रेजरी बिल
  • कॉल मनी
  • जमा प्रमाणपत्र
  • वाणिज्यिक बिल
  • वाणिज्यिक पत्र
  • म्यूचुअल फंड्स
  • रेपो और रिवर्स रेपो बाजार
  • नक़द प्रबंधन बिल
पार्टिसिपेटरी नोट, जिसे आमतौर पर P-नोट के रूप में जाना जाता है, यह पंजीकृत विदेशी संस्थागत निवेशक (एफआईआई) द्वारा एक विदेशी निवेशक को जारी किया गया एक उपकरण है जो बाजार नियामक, भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (SEBI) के साथ खुद को पंजीकृत किए बिना भारतीय शेयर बाजारों में निवेश करना चाहते है। यह संगठित मुद्रा बाजार का हिस्सा नहीं है।

flag
 Suggest corrections
thumbs-up
 
0 Upvotes


Similar questions
QuestionImage
QuestionImage
View More...



footer-image