CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon


Question

Read the following passage(s) and answer the items that follow each passage. Your answers to these items should be based on the passages only.

PASSAGE 1

Mythology is magic realism in the sense that there is some realism and a lot of magic in the fabric of mythology, woven into legendary tales with supernatural objects and supernatural powers. Myths also show the extremes of human behaviour, dilemmas, attitudes and paradoxes. Take out the imagination and the tale slackens into humdrum homily.

Now, imagination we have a plenty with aerial vehicles, multiple heads and arms, all kinds of yantras (contraptions) that can, at one remove, be claimed as sci-fi or hi-fi apparatus, all invented by fecund imagination rooted in a mythological past. In this we are no different from other societies with an ancient past. Can we, on the basis of this, say that modern inventions existed in that past? This takes us, with another sweeping flight of imagination, into the belief that all imagined objects were actually part of the material inventions of the past. And when the myths enter into people’s beliefs, mythology gets entangled with religion.

Of course, imagination has been a powerful creative force and continues to be. And we have myths today that encapsulate our current imagination. If we read Jules Verne or Arthur C. Clarke we are swept into the era of the space odyssey, even if the spaces are distinctly different. Or if we take George Orwell’s 1984, we are taken into the era of an authoritarian system of robot-and-computer-like people taking over and ruling us. Such imagination, on occasion, has turned out to be prophetic. But there is a substantial difference. This imagination sometimes makes a link with reality as projected for the future, whereas in India today the claim is that it connects to a reality from our past. So where is this to be placed in time — in the future or in the past?

Mythology should be read as mythology, and therefore with a rich, and separate identity. Ancient myth-makers, among the Egyptians, Greeks, Indians, Chinese and others, saw myth as involving gods and the supernatural, so it is perhaps sensible not to confuse it with history or science. Myths are old legends; history is what is thought to have happened, of which science is a part

Q2. Author establishes relationship between myths and religion in the passage. Choose the right option which explains this relationship.

निम्नलिखित परिच्छेदों को पढ़िए और प्रत्येक परिच्छेद के आगे आने वाले प्रश्नों के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नों के आपके उत्तर इन परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

परिच्छेद-1

पौराणिक कथाएँ इस अभिप्राय से मायावी यथार्थ हैं कि इनमें थोड़ा यथार्थ है, साथ ही पौराणिक कथाओं के ताने-बाने में माया से बुनी हुई अलौकिक वस्तुओं और अलौकिक शक्तियों की बहुत-सी प्रचलित कथाएँ हैं। इन कल्पित कथाओं में मानव आचरण, असमंजस, मनोभाव और विरोधाभास की पराकाष्टा दर्शाई जाती है। इन कथाओं में से यदि कल्पना को हटा दिया जाए तो कथाएँ शिथिल हो कर नीरम प्रवचन रह जाएँगी।

अब, हमारी कल्पनाशीलता तो प्रचुर है, जिसमे आकाशीय वाहन, अनेक मस्तक और भुजाएँ, अनेक प्रकार के यंत्र, जिनके बारे में वैज्ञानिक कल्पना या उच्च शक्ति उपकरण होने का दावा किया जा सकता है, जिनके आविष्कार का आधार हमारी पौराणिक अतीत वाले अन्य समुदायों से भिन्न नहीं हैं। क्या इस आधार पर हम कह सकते हैं कि आधुनिक अविष्कार अतीत में भी उपलब्ध थे? यह हमें एक अन्य व्यापक कल्पना की उड़ान पर उस विश्वास की ओर ले जाते हैं कि सभी कल्पित वस्तुएं वास्तव में अतीत के भौतिक अविष्कारों का ही भाग थी। और जब यह कल्पित कथाएँ लोगां के विश्वास में प्रवेश कर जाती हैं तो पौराणिक कथाएँ धर्म में उलझ कर रह जाती हैं।

निसंदेह, कल्पनाशीलता एक रचनात्मक शक्ति थी और अब भी है। वर्तमान में कुछ ऐसी कथाएँ हैं, जो हमारी वर्तमान कल्पना को सम्पुटित करती हैं। यदि हम जूल्स वेर्ने या आर्थर सी, क्लार्क को पढ़ते हैं तो हम अंतरिक्ष यात्रा के युग में पहुंच जाते हैं, भले ही वे अंतरिक्ष बहुत-ही भिन्न हैं। या जब हम जॉर्ज ऑरवेल की पुस्तक ‘‘1984’’ पढ़ते हैं तो हम ऐसे दबंग शासन प्रणाली के युग में पहुंच जाते हैं जहां रोबोट-कंप्यूटर जैसे लोगों ने सत्ता को हथिया लिया है और वे हम पर शासन कर रहे हैं। कई अवसरों पर इस प्रकार की कल्पना भविष्य सूचक भी सिद्ध हुई है। परन्तु उनमे बहुत ही ठोस अंतर है। इस कल्पना में कई बार भविष्य के लिए प्रस्तावित भविष्य से कड़ियाँ जुड़ जाती हैं, जबकि भारत में यह दावा किया जा रहा है कि यह हमारे अतीत की वास्तविकता से जुड़ी हुई हैं। तो समय के चक्र में इसे कहाँ रखा जाना है- भविष्य में या अतीत में ?

पौराणिक कथाओं को पौराणिक कथाओं के रूप में ही एक समृद्ध और विभिन्न पहचान के साथ पढ़ा जाना चाहिये। मिस्त्र, यूनानी, भारतीय, चीनी और अन्य प्राचीन कथा-लेखकों ने इस कथाओं में देवताओं और अलौकिक शक्तियों को सम्मलित किया। इसीलिए शायद बुद्धिमता इसी में है कि इनको इतिहास या विज्ञान से उलझाया नहीं जाये। पौराणिक कथाएं पुरातन किंवदंतियां हैं; इतिहास वह है जिसे घटित माना जा चुका है और विज्ञान भी उसका एक अंग है।

Q2. इस परिच्छेद में लेखक धर्म और पौराणिक कथाओं के बीच संबंध स्थापित करता है। इस संबंध की व्याख्या करने के लिए सही विकल्प का चयन करें।


  1. a) Myths are the medium through which religion explains the extremes of human behaviour, dilemmas, attitudes and paradoxes

    a) पौराणिक कथाएँ एक माध्यम हैं, जिनके द्वारा मानव आचरण, असमंजस या दुविधा, मनोभाव और विरोधाभासों की व्याख्या की जाती है।

  2. b) Religion uses medium of myths to establish modern inventions like sci-fi or hi-fi apparatus

    b) धर्म द्वारा पौराणिक कथाओं के माध्यम का उपयोग आधुनिक आविष्कारों, जैसे वैज्ञानिक कल्पनाओं और उच्च शक्ति उपकरणों को स्थापित करने के लिए किया जाता है।

  3. c) Myths are collection of human imagination and when myths get into the belief system of people, they get entangled with religion

    c) पौराणिक कथाएँ मानव कल्पना का संग्रह हैं और जब यह कथाएँ लोगों के विश्वास में प्रवेश कर जाती हैं तो यह धर्म के साथ उलझ कर रह जाती हैं।

  4. d) Mythology and religion are a part of history which connects us to reality of the past.

    d) पौराणिक कथाएँ और धर्म इतिहास का ही एक भाग हैं जो हमें हमारे अतीत की वास्तविकता से जोड़ देती हैं।


Solution

The correct option is C

c) Myths are collection of human imagination and when myths get into the belief system of people, they get entangled with religion

c) पौराणिक कथाएँ मानव कल्पना का संग्रह हैं और जब यह कथाएँ लोगों के विश्वास में प्रवेश कर जाती हैं तो यह धर्म के साथ उलझ कर रह जाती हैं।


It is stated in the passage “And when the myths enter into people‘s beliefs, mythology gets entangled with religion.” This explained option (c) is the right option. Other three options are not mentioned in the passage at all.

परिच्छेद में यह कहा गया है कि, “और जब यह कल्पित कथाएँ लोगों के विश्वास में प्रवेश कर जाती हैं तो पौराणिक कथाएँ धर्म में उलझ कर रह जाती हैं। इससे यह व्याख्या होती है कि विकल्प (c) सही विकल्प है। अन्य तीन विकल्पों का परिच्छेद में कहीं भी कोई उल्लेख नहीं है।

flag
 Suggest corrections
thumbs-up
 
0 Upvotes


Similar questions
QuestionImage
All India Test Series
Q1.

Read the following passage(s) and answer the items that follow each passage. Your answers to these items should be based on the passages only.

PASSAGE 1

Mythology is magic realism in the sense that there is some realism and a lot of magic in the fabric of mythology, woven into legendary tales with supernatural objects and supernatural powers. Myths also show the extremes of human behaviour, dilemmas, attitudes and paradoxes. Take out the imagination and the tale slackens into humdrum homily.

Now, imagination we have a plenty with aerial vehicles, multiple heads and arms, all kinds of yantras (contraptions) that can, at one remove, be claimed as sci-fi or hi-fi apparatus, all invented by fecund imagination rooted in a mythological past. In this we are no different from other societies with an ancient past. Can we, on the basis of this, say that modern inventions existed in that past? This takes us, with another sweeping flight of imagination, into the belief that all imagined objects were actually part of the material inventions of the past. And when the myths enter into people’s beliefs, mythology gets entangled with religion.

Of course, imagination has been a powerful creative force and continues to be. And we have myths today that encapsulate our current imagination. If we read Jules Verne or Arthur C. Clarke we are swept into the era of the space odyssey, even if the spaces are distinctly different. Or if we take George Orwell’s 1984, we are taken into the era of an authoritarian system of robot-and-computer-like people taking over and ruling us. Such imagination, on occasion, has turned out to be prophetic. But there is a substantial difference. This imagination sometimes makes a link with reality as projected for the future, whereas in India today the claim is that it connects to a reality from our past. So where is this to be placed in time — in the future or in the past?

Mythology should be read as mythology, and therefore with a rich, and separate identity. Ancient myth-makers, among the Egyptians, Greeks, Indians, Chinese and others, saw myth as involving gods and the supernatural, so it is perhaps sensible not to confuse it with history or science. Myths are old legends; history is what is thought to have happened, of which science is a part

Q2. Author establishes relationship between myths and religion in the passage. Choose the right option which explains this relationship.

निम्नलिखित परिच्छेदों को पढ़िए और प्रत्येक परिच्छेद के आगे आने वाले प्रश्नों के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नों के आपके उत्तर इन परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

परिच्छेद-1

पौराणिक कथाएँ इस अभिप्राय से मायावी यथार्थ हैं कि इनमें थोड़ा यथार्थ है, साथ ही पौराणिक कथाओं के ताने-बाने में माया से बुनी हुई अलौकिक वस्तुओं और अलौकिक शक्तियों की बहुत-सी प्रचलित कथाएँ हैं। इन कल्पित कथाओं में मानव आचरण, असमंजस, मनोभाव और विरोधाभास की पराकाष्टा दर्शाई जाती है। इन कथाओं में से यदि कल्पना को हटा दिया जाए तो कथाएँ शिथिल हो कर नीरम प्रवचन रह जाएँगी।

अब, हमारी कल्पनाशीलता तो प्रचुर है, जिसमे आकाशीय वाहन, अनेक मस्तक और भुजाएँ, अनेक प्रकार के यंत्र, जिनके बारे में वैज्ञानिक कल्पना या उच्च शक्ति उपकरण होने का दावा किया जा सकता है, जिनके आविष्कार का आधार हमारी पौराणिक अतीत वाले अन्य समुदायों से भिन्न नहीं हैं। क्या इस आधार पर हम कह सकते हैं कि आधुनिक अविष्कार अतीत में भी उपलब्ध थे? यह हमें एक अन्य व्यापक कल्पना की उड़ान पर उस विश्वास की ओर ले जाते हैं कि सभी कल्पित वस्तुएं वास्तव में अतीत के भौतिक अविष्कारों का ही भाग थी। और जब यह कल्पित कथाएँ लोगां के विश्वास में प्रवेश कर जाती हैं तो पौराणिक कथाएँ धर्म में उलझ कर रह जाती हैं।

निसंदेह, कल्पनाशीलता एक रचनात्मक शक्ति थी और अब भी है। वर्तमान में कुछ ऐसी कथाएँ हैं, जो हमारी वर्तमान कल्पना को सम्पुटित करती हैं। यदि हम जूल्स वेर्ने या आर्थर सी, क्लार्क को पढ़ते हैं तो हम अंतरिक्ष यात्रा के युग में पहुंच जाते हैं, भले ही वे अंतरिक्ष बहुत-ही भिन्न हैं। या जब हम जॉर्ज ऑरवेल की पुस्तक ‘‘1984’’ पढ़ते हैं तो हम ऐसे दबंग शासन प्रणाली के युग में पहुंच जाते हैं जहां रोबोट-कंप्यूटर जैसे लोगों ने सत्ता को हथिया लिया है और वे हम पर शासन कर रहे हैं। कई अवसरों पर इस प्रकार की कल्पना भविष्य सूचक भी सिद्ध हुई है। परन्तु उनमे बहुत ही ठोस अंतर है। इस कल्पना में कई बार भविष्य के लिए प्रस्तावित भविष्य से कड़ियाँ जुड़ जाती हैं, जबकि भारत में यह दावा किया जा रहा है कि यह हमारे अतीत की वास्तविकता से जुड़ी हुई हैं। तो समय के चक्र में इसे कहाँ रखा जाना है- भविष्य में या अतीत में ?

पौराणिक कथाओं को पौराणिक कथाओं के रूप में ही एक समृद्ध और विभिन्न पहचान के साथ पढ़ा जाना चाहिये। मिस्त्र, यूनानी, भारतीय, चीनी और अन्य प्राचीन कथा-लेखकों ने इस कथाओं में देवताओं और अलौकिक शक्तियों को सम्मलित किया। इसीलिए शायद बुद्धिमता इसी में है कि इनको इतिहास या विज्ञान से उलझाया नहीं जाये। पौराणिक कथाएं पुरातन किंवदंतियां हैं; इतिहास वह है जिसे घटित माना जा चुका है और विज्ञान भी उसका एक अंग है।

Q2. इस परिच्छेद में लेखक धर्म और पौराणिक कथाओं के बीच संबंध स्थापित करता है। इस संबंध की व्याख्या करने के लिए सही विकल्प का चयन करें।


All India Test Series
Q2.

Read the following passage(s) and answer the items that follow each passage. Your answers to these items should be based on the passages only.

PASSAGE 1

Bertrand Russell, who was a firm atheist, was once asked what he would do if, following his death, he were to encounter God after all. Russell is supposed to have answered, “I will ask him: God Almighty, why did you give so little evidence of your existence?” Certainly appalling world in which we live does not—at least on the surface—look like one in which an all-powerful benevolence is having its way. It is hard to understand how a compassionate world order can include so many people afflicted by acute misery, persistent hunger and deprived and desperate lives, and why millions of innocent children have to die each year from lack of food or medical attention or social care.

This issue, of course, is not new, and it has been a subject of some discussion among theologians. The argument that God has reasons to want us to deal with these matters ourselves has had considerable intellectual support. As a nonreligious person, I am not in a position to assess the theological merits of this argument. But I can appreciate the force of the claim that people themselves must have the responsibility for the development and change of the world in which they live. One does not have to be either devout or non-devout to accept this basic connection. As people who live—in a broad sense—together, we cannot escape the thought that the terrible occurrences that we see around us are quintessentially our problems. They are our responsibility—whether or not they are also anyone else’s.

Q62. Consider the following assumptions:

1. People can elevate their sufferings themselves if they try.

2. This world would be much nicer if there was a firm evidence of the existence of God.

According to the passage, which of the above assumptions is/are correct?

निम्नलिखित परिच्छेदों को पढ़िए और प्रत्येक परिच्छेद के आगे आने वाले प्रश्नों के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नों के आपके उत्तर इन परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

परिच्छेद - 1

पूर्णरूपेण नास्तिक बर्ट्रेंड रसेल से एक बार पूछा गया कि मृत्यु के पश्चात ईश्वर से साक्षात्कार हो जाने पर वह क्या करेगा। जहां तक पता है, रसेल ने उत्तर दिया, ‘‘मैं उससे पूछूँगाः सर्वशक्तिमान प्रभु, आपके अस्तित्व का इतना कम प्रमाण क्यों उपलब्ध है?’’ निश्चय की हमारा निवास स्थान, यह भयकारी संसार कम से कम ऊपर से उस परम उदार प्रभु की इच्छाओं का पालन करता प्रतीत नहीं होता। यह समझना दुष्कर है कि एक करूणामयी विश्व व्यवस्था में इतने अधिक लोग दुःख ग्रस्त, सतत रूप से क्षुधा ग्रस्त तथा सुविधा वंचित और निराशामय जीवन किस प्रकार व्यतीत कर रहे हो सकते हैं, तथा क्यों लाखों बच्चों को प्रति वर्ष भोजन, या स्वास्थ्य संबंधी तथा सामाजिक देख-भाल के अभाव में मृत्यु को प्राप्त होना होता है।

निश्चय ही यह मुद्दा नया नहीं है, तथा धर्मशास्त्रियों के बीच इस बात को ले कर चर्चा भी होती रही है। इस तर्क को कि ईश्वर की इस इच्छा के पुख्ता कारण हैं कि वह चाहता है कि हम स्वयं इन मुद्दों का समाधान तलाशें, तथा इस तर्क को बहुत कुछ बौद्धिक समर्थन भी प्राप्त है। एक अधार्मिक व्यक्ति के रूप में मैं इस तर्क की धर्मशास्त्र संबंधी विशेषता का मूल्यांकन करने की स्थिति में नहीं हूँ कि लोगों को स्वयं की अपने निवास स्थान इस संसार के विकास तथा परिवर्तन का उत्तरदायित्व स्वीकार करना चाहिए। इस आधारभूत जुड़ाव को स्वीकार करने के लिए हमें आस्थावान या आस्थारहित होने की कोई आवश्यकता नहीं है। व्यापक अर्थां में, एक साथ रहने वाले लोगों के रूप में हम इस विचार से बच कर नहीं निकल सकते कि हमारे आस-पास घट रही भयंकर घटनाएं विशिष्ट रूप से हमारी ही समस्याएँ हैं। चाहे वे अन्य किसी और के हों या नहीं, लेकिन हमारे उत्तरदायित्व अवश्य हैं।

Q62. निम्नलिखित पूर्व धारणाओं पर विचार करें:

1. प्रयत्न करने पर लोग अपने कष्टों को बढ़ा सकते हैं।

2. यदि यहाँ ईश्वर के अस्तित्व को कोई सशक्त प्रमाण होता तो यह संसार कहीं अधिक सुन्दर होता।

परिच्छेद के अनुसार, उपर्युक्त पूर्व धराणाओं में से कौन-सा/से सही है/हैं?


All India Test Series
Q3.

Read the following passage(s) and answer the items that follow each passage. Your answers to these items should be based on the passages only.

PASSAGE 1

Bertrand Russell, who was a firm atheist, was once asked what he would do if, following his death, he were to encounter God after all. Russell is supposed to have answered, “I will ask him: God Almighty, why did you give so little evidence of your existence?” Certainly appalling world in which we live does not—at least on the surface—look like one in which an all-powerful benevolence is having its way. It is hard to understand how a compassionate world order can include so many people afflicted by acute misery, persistent hunger and deprived and desperate lives, and why millions of innocent children have to die each year from lack of food or medical attention or social care.

This issue, of course, is not new, and it has been a subject of some discussion among theologians. The argument that God has reasons to want us to deal with these matters ourselves has had considerable intellectual support. As a nonreligious person, I am not in a position to assess the theological merits of this argument. But I can appreciate the force of the claim that people themselves must have the responsibility for the development and change of the world in which they live. One does not have to be either devout or non-devout to accept this basic connection. As people who live—in a broad sense—together, we cannot escape the thought that the terrible occurrences that we see around us are quintessentially our problems. They are our responsibility—whether or not they are also anyone else’s.

Q64. Consider the following statements:

1. Humans are responsible for all the problems in this world.

2. God does not share any responsibility for the various afflictions suffered by humans in this world.

According to the passage, which of the above statements is/are correct?

निम्नलिखित परिच्छेदों को पढ़िए और प्रत्येक परिच्छेद के आगे आने वाले प्रश्नों के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नों के आपके उत्तर इन परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

परिच्छेद - 1

पूर्णरूपेण नास्तिक बर्ट्रेंड रसेल से एक बार पूछा गया कि मृत्यु के पश्चात ईश्वर से साक्षात्कार हो जाने पर वह क्या करेगा। जहां तक पता है, रसेल ने उत्तर दिया, ‘‘मैं उससे पूछूँगाः सर्वशक्तिमान प्रभु, आपके अस्तित्व का इतना कम प्रमाण क्यों उपलब्ध है?’’ निश्चय की हमारा निवास स्थान, यह भयकारी संसार कम से कम ऊपर से उस परम उदार प्रभु की इच्छाओं का पालन करता प्रतीत नहीं होता। यह समझना दुष्कर है कि एक करूणामयी विश्व व्यवस्था में इतने अधिक लोग दुःख ग्रस्त, सतत रूप से क्षुधा ग्रस्त तथा सुविधा वंचित और निराशामय जीवन किस प्रकार व्यतीत कर रहे हो सकते हैं, तथा क्यों लाखों बच्चों को प्रति वर्ष भोजन, या स्वास्थ्य संबंधी तथा सामाजिक देख-भाल के अभाव में मृत्यु को प्राप्त होना होता है।

निश्चय ही यह मुद्दा नया नहीं है, तथा धर्मशास्त्रियों के बीच इस बात को ले कर चर्चा भी होती रही है। इस तर्क को कि ईश्वर की इस इच्छा के पुख्ता कारण हैं कि वह चाहता है कि हम स्वयं इन मुद्दों का समाधान तलाशें, तथा इस तर्क को बहुत कुछ बौद्धिक समर्थन भी प्राप्त है। एक अधार्मिक व्यक्ति के रूप में मैं इस तर्क की धर्मशास्त्र संबंधी विशेषता का मूल्यांकन करने की स्थिति में नहीं हूँ कि लोगों को स्वयं की अपने निवास स्थान इस संसार के विकास तथा परिवर्तन का उत्तरदायित्व स्वीकार करना चाहिए। इस आधारभूत जुड़ाव को स्वीकार करने के लिए हमें आस्थावान या आस्थारहित होने की कोई आवश्यकता नहीं है। व्यापक अर्थां में, एक साथ रहने वाले लोगों के रूप में हम इस विचार से बच कर नहीं निकल सकते कि हमारे आस-पास घट रही भयंकर घटनाएं विशिष्ट रूप से हमारी ही समस्याएँ हैं। चाहे वे अन्य किसी और के हों या नहीं, लेकिन हमारे उत्तरदायित्व अवश्य हैं।

Q64. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:

1. इस संसार में सभी समस्याओं के लिए मानव ही उत्तरदायी है।

2. इस संसार में मानव द्वारा सहे गए विभिन्न कष्टों के लिए ईश्वर उत्तरदायी नहीं है।

कथन के अनुसार, उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?


QuestionImage
View More...



footer-image