UPSC परीक्षा कम्प्रेहैन्सिव न्यूज़ एनालिसिस - 28 May, 2022 UPSC CNA in Hindi

28 मई 2022 : समाचार विश्लेषण

A. सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 1 से संबंधित:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

B. सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

C. सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 3 से संबंधित:

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी:

  1. गूगल का भारत के ONDC में शामिल होने पर विचार

D. सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 4 से संबंधित:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

E. संपादकीय:

सामाजिक न्याय:

  1. लोकतंत्र के दृष्टिकोण के साथ अन्याय
  2. दिव्यांगता एवं स्त्रीयोचित स्वच्छता में बाधाएं

समाज

  1. कार्य के रूप में यौन क्रिया

F. प्रीलिम्स तथ्य:

  1. सेला मकाक (मकाका सेलाई)

G. महत्वपूर्ण तथ्य:

  1. डेटा सुरक्षा में सुधार हेतु आईआईएससी द्वारा उपकरण का विकास
  2. मैं हर हाथ में फोन और हर खेत में ड्रोन देखना चाहता हूं: प्रधानमंत्री
  3. उन्नत ज्ञान और ग्रामीण प्रौद्योगिकी क्रियान्वयन (AKRUTI) कार्यक्रम

H. UPSC प्रारंभिक परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

I. UPSC मुख्य परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 3 से संबंधित:

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी:

गूगल का भारत के ONDC में शामिल होने पर विचार

विषय: विज्ञान और प्रौद्योगिकी- दैनिक जीवन में विकास तथा उनके अनुप्रयोग और प्रभाव।

मुख्य परीक्षा: ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कॉमर्स और इसके महत्व के बारे में विवरण

प्रसंग

अल्फाबेट इंक गूगल ने कहा है कि वह भारत के खुले ई-कॉमर्स नेटवर्क ONDC के साथ अपनी खरीदारी सेवाओं को एकीकृत करने पर विचार कर रही है।

ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कॉमर्स (ONDC)

  • यह वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के तहत डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड यानी डीपीआईआईटी (DPIIT) की एक पहल है।
  • इस पहल की शुरुआत डिजिटल या इलेक्ट्रॉनिक प्लेटफॉर्म पर वस्तुओं और सेवाओं के व्यापार के सभी पहलुओं के लिए खुले नेटवर्क के उपयोग को बढ़ावा देने हेतु की गई थी।
  • इसका विकास ओपन-सोर्स मॉडल के आधार पर किया गया है, जिसमें किसी विशिष्ट प्लेटफॉर्म से स्वतंत्र ओपन स्पेसिफिकेशंस और ओपन नेटवर्क प्रोटोकॉल का उपयोग किया गया है।
  • इसका उद्देश्य संपूर्ण मूल्य श्रृंखला को डिजिटाइज करना, संचालन को मानकीकृत करना, आपूर्तिकर्ताओं को शामिल करने को बढ़ावा देना, रसद में दक्षता को बढ़ाना और उपभोक्ताओं के लिए मूल्य में सुधार करना है।
  • ONDC प्लेटफॉर्म एक इंटरफेस है जिसमें खरीदार और विक्रेता दोनों शामिल होते हैं। यह एक खरीदार जो इंटरफ़ेस पर किसी आइटम की खोज करता है, को उन विक्रेताओं के साथ, जिन्होंने उस विशेष आइटम को सूचीबद्ध किया है, के साथ जोड़ता है ।
  • इसके कई बैकएंड पार्टनर होंगे जैसे लॉजिस्टिक्स सर्विस प्रोवाइडर, एंटरप्राइज रिसोर्स प्लानर्स, ई-कॉमर्स स्टोर होस्टिंग सर्विस प्रोवाइडर आदि।

28 मई 2022 : समाचार विश्लेषण

स्त्रोत: Times of India

नवीनतम घटनाक्रम

  • तेजी से बढ़ते ई-कॉमर्स बाजार में अमेजॉन और वॉलमार्ट जैसी अमेरिकी फर्मों के प्रभुत्व को सीमित करने के दृष्टिकोण से, भारत ने हाल ही में ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कॉमर्स (ONDC) को सॉफ्ट-लॉन्च किया।
  • केंद्र सरकार का मानना था कि 2021 में भारतीय ई-कॉमर्स बाजार सकल व्यापारिक मूल्य में $ 55 बिलियन से अधिक था और 2030 तक इसके लगभग 350 बिलियन डॉलर तक बढ़ने की संभावना है।
  • यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) के कारण भारत में भुगतान व्यवसाय की सफलता के बाद, गूगल ने ONDC में शामिल होने की इच्छा जताई है।
    • वर्तमान में, गूगल का शॉपिंग व्यवसाय लिस्टिंग के एग्रीगेटर होने तक सीमित है और यह डिलीवरी (जैसे-ऑर्डर की पूर्ति) नहीं करता है, जैसा कि अमेज़ॅन जैसी कंपनियां करती हैं।

सारांश:

  • ONDC प्लेटफॉर्म की शुरुआत उपभोक्ताओं के लिए ई-कॉमर्स को अधिक समावेशी और सुलभ बनाने के लिए की गई थी। भारत के ONDC में गूगल के शामिल होने की इच्छा को महत्व मिला है क्योंकि इससे ONDC कार्यक्रम को 3 करोड़ विक्रेताओं और 1 करोड़ व्यापारियों को ऑनलाइन शामिल करने और अगस्त तक कम से कम 100 शहरों और कस्बों तक विस्तार के अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद मिलेगी।

संपादकीय-द हिन्दू

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित:

सामाजिक न्याय:

लोकतंत्र के दृष्टिकोण के साथ अन्याय

विषय: केंद्र और राज्यों द्वारा आबादी के कमजोर वर्गों के लिए सामाजिक न्याय, कल्याणकारी योजनाएं

मुख्य परीक्षा: लोकतंत्र के दृष्टिकोण के साथ न्याय प्रदान करने के लिए आवश्यक हस्तक्षेप।

प्रसंग: समय के साथ साथ भारत का जीवंत लोकतंत्र अम्बेडकर के दृष्टिकोण से भटक गया है।

विश्लेषण:

  • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर डॉ बी आर अंबेडकर की जयंती का आयोजन सामाजिक-आर्थिक और राजनीतिक सुधारों के उनके दृष्टिकोण को पोषित करने के लिए किया जाता है।
  • भारतीय संविधान डॉ. अम्बेडकर के कालातीत प्रयास का एक उपयुक्त उदाहरण है।
  • समाज के दलित वर्ग के उत्थान के लिए अम्बेडकर की अदम्य भावना और जातिगत भेदभाव का उनका कट्टर विरोध एक समान और न्यायपूर्ण समाज की स्थापना के महत्वपूर्ण तत्व थे।
  • इसके अलावा, डॉ अम्बेडकर का सामाजिक-सांस्कृतिक न्याय और आर्थिक निष्पक्षता विभिन्न संवैधानिक प्रावधानों में दिखाई देता है।
  • हालाँकि, एक राष्ट्र के रूप में समय के साथ वर्तमान परिदृश्य में आर्थिक और राजनीतिक व्यवस्था में लोकतंत्र के वास्तविक दृष्टिकोण का अभाव है जिसकी वकालत बी.आर. अम्बेडकर ने की थी।

लोकतंत्र के मूल सिद्धांत:

  • लोकतंत्र की कई परिभाषाएं हैं, जिनमें अब्राहम लिंकन की सबसे महत्त्वपूर्ण परिभाषा है, जिसमें ‘लोकतंत्र’ को लोगों का, लोगों द्वारा और लोगों के लिए सरकार के रूप में परिभाषित किया गया है।
  • इन परिभाषाओं में लोकतंत्र के आधार के रूप में जन-केंद्रित दृष्टिकोण का उदाहरण दिया गया है।
  • डॉ. अम्बेडकर के अनुसार, लोकतंत्र के सतत कामकाज के लिए कुछ आवश्यक शर्तें हैं जिन्हें प्राप्त किया जाना चाहिए। ये शर्तें हैं:
    • स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व (फ्रांसीसी क्रांति के अंश) के साथ समानता पर विशेष जोर।
    • निरंकुशता को रोकने के लिए दो दलीय व्यवस्था
    • कानून और प्रशासन में समानता
    • संवैधानिक नैतिकता
    • अन्याय या उत्पीड़न का अभाव
    • नैतिक आदेश
    • सार्वजनिक विवेक

अंबेडकर के दृष्टिकोण पर पुनः ध्यान देना: भावी कदम

  • डॉ. अम्बेडकर के दृष्टिकोण में एक कार्यात्मक लोकतंत्र के प्रामाणिक तत्वों के गहन विश्लेषण ने देश में सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक व्यवस्था के परिवर्तन को एक तत्काल आवश्यकता बना दिया है।
  • यह सही समय है जब सरकार को आर्थिक और श्रम अधिकारों की लड़ाई में अम्बेडकर की सक्रिय भागीदारी पर फिर से विचार करना चाहिए।
  • वर्तमान नीतियों में न्याय के सभी रूपों को सुनिश्चित किया जाना चाहिए जिसमें सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक रूप शामिल हैं।
  • डॉ. अम्बेडकर ने आर्थिक लोकतंत्र को प्रोत्साहित करने के एक तरीके के रूप में प्रमुख और बुनियादी उद्योगों, कृषि और बीमा क्षेत्रों के राष्ट्रीयकरण को बढ़ावा दिया।
  • लेकिन सरकार के वर्तमान कृत्य जैसे सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, हवाई अड्डों, भारतीय रेलवे, दूरसंचार कंपनियों (बीएसएनएल), भारतीय जीवन बीमा निगम, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और अन्य सार्वजनिक संगठनों के मुद्रीकरण/निजीकरण, बी आर अंबेडकर द्वारा परिकल्पित लोकतांत्रिक दृष्टिकोण से विचलन को दर्शाते है।
  • सरकार के लिए यह आवश्यक है कि वह जनता के व्यापक हित के लिए कार्य करे। यह लोगों के विश्वास और आकांक्षाओं को रूप देने वाले दस्तावेज – संविधान के निर्माता अम्बेडकर को श्रद्धांजलि देने का एक उपयुक्त तरीका होगा।

सारांश: सरकार एक ऐसी आर्थिक प्रणाली को अपनाए जो लोकतंत्र के मूल सिद्धांतों के साथ संरेखित हो तथा सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक न्याय सुनिश्चित करे। यह डॉ. बी.आर. अम्बेडकर को श्रद्धांजलि देने तथा राष्ट्र को एक समान, स्वतंत्र और समावेशी समाज में बदलने के लिए एक महत्वपूर्ण होगा।

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित

सामाजिक न्याय

दिव्यांगता एवं स्त्रीयोचित स्वच्छता में बाधाएं

विषय: स्वास्थ्य से संबंधित सामाजिक क्षेत्र की सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित मुद्दे

मुख्य परीक्षा: मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता प्रबंधन का महत्व

प्रसंग: मासिक धर्म स्वास्थ्य एवं स्वच्छता प्रबंधन के मुद्दों के साथ-साथ दिव्यांग महिलाओं के सामने आने वाली चुनौतियों में तत्काल हस्तक्षेप की आवश्यकता है।

अवलोकन:

  • सरकार और गैर-सरकारी संगठन ने जागरूकता बढ़ाने और महिला-अनुकूल स्वच्छता सुविधाओं तक पहुंच के साथ देश में मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता प्रबंधन में सुधार के लिए बहुत प्रयास किए हैं।
  • महिलाओं के लिए स्वच्छता सुविधाओं की बेहतरी हेतु कई पहलों के बावजूद, दिव्यांग महिलाओं जैसे कुछ समूहों की अनदेखी की गई है तथा उचित स्वच्छता सुविधाओं और मासिक धर्म उत्पादों तक पहुंचने में बाधाओं का सामना करना पड़ा है।
  • 2011 की जनगणना के अनुसार, लगभग 27 मिलियन व्यक्ति विकलांग हैं और दैनिक जीवन के कई क्षेत्रों में पूरी तरह से भाग लेने में असमर्थ हैं।
  • इन विकलांग व्यक्तियों को बहिष्कार की भावना का सामना करना पड़ रहा है और उन्हें सामाजिक बाधा का सामना करना पड़ता है।
  • दिव्यांग व्यक्तियों के अधिकार अधिनियम, 2016 में निर्दिष्ट किया गया है कि दिव्यांग व्यक्ति में दीर्घकालिक शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक या संवेदी समस्या होती है जो व्यक्ति के सामाजिक जुड़ाव और गतिविधियों में बाधा बनती है।
  • दिव्यांग व्यक्तियों के अधिकार अधिनियम का उद्देश्य दिव्यांग व्यक्तियों के अधिकारों की रक्षा करना तथा उन्हें शेष समाज के समान स्थिति महसूस कराने के लिए कानूनी सुरक्षा प्रदान करना है।

उभरती चिंताएं:

  • 2016 के अधिनियम के प्रावधानों के बावजूद, दिव्यांग व्यक्तियों के अधिकारों की अनुभूति सही नहीं रही है, विशेषकर समाज के सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लोगों के लिए।
  • भारत में गरीब और हाशिए पर पड़े समूहों की लड़कियों और महिलाओं पर मासिक धर्म की स्वच्छता बनाए रखने के लिए उचित स्वच्छता सेवाओं तक पहुंचने का अतिरिक्त बोझ है।
  • इस कारण से वे कई संक्रामक रोगों जैसे कि मूत्र पथ के संक्रमण, कैंडिडिआसिस और योनि क्षेत्र में अन्य संक्रमणों के प्रति संवेदनशील बन जाती हैं।
  • दिव्यांग महिलाओं के बारे में अंतर्निहित पूर्वाग्रह और गलत धारणाएं मौजूद हैं जो विवाह के लिए उनकी उपयुक्तता और प्रजनन की उनकी क्षमता पर सवाल उठाती हैं।
  • सामाजिक और शारीरिक बाधाओं के कारण, यौन और प्रजनन स्वास्थ्य संबंधी जानकारी और सेवाओं तक पहुंच का दमन हो गया है।
  • मासिक धर्म से जुड़ी पूर्वकल्पित धारणाएं आबादी के गरीब वर्गों में मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता के बारे में जागरूकता की भावना विकसित करने में बाधा के रूप में कार्य करती हैं।
  • इन मुद्दों ने श्रम बल में महिलाओं की सक्रिय भागीदारी को प्रभावित किया है और कई लड़कियों को स्कूल से दूर रखा है।

भावी कदम:

  • यह समाज के सभी वर्गों में प्रसारित किया जाना चाहिए कि लैंगिक पहचान, क्षमता, दिव्यांगता या सामाजिक-आर्थिक स्थिति से परे प्रत्येक मासिक धर्म वाली महिलाओं के पास मासिक धर्म स्वास्थ्य का अधिकार है।
  • भारत ने मासिक धर्म स्वास्थ्य के आसपास के कलंक को नष्ट करने और स्वच्छता उत्पादों तक पहुंच बढ़ाने में महत्वपूर्ण प्रगति की है।
  • मासिक धर्म स्वास्थ्य के महत्व को बढ़ावा देने के लिए अधिक प्रभावी जागरूकता कार्यक्रम और पहल की जानी चाहिए।
  • समाज, सरकार और गैर-सरकारी संगठनों के सहयोग से और अधिक प्रयासों को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सभी मासिक धर्म वाली महिलाओं के साथ सम्मान और समावेशी व्यवहार हो।

सारांश: मासिक धर्म स्वास्थ्य और स्वच्छता प्रबंधन से संबंधित नीतियों एवं पहलों में समाज में मौजूदा आर्थिक विषमताओं पर विचार किया जाना चाहिए ताकि सभी वर्गों के बीच अच्छा स्वास्थ्य सुनिश्चित किया जा सके और कोई भी छूट न सके।

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 1 से संबंधित

समाज

कार्य के रूप में यौन क्रिया

विषय: स्वास्थ्य से संबंधित सामाजिक क्षेत्र की सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित मुद्दे

मुख्य परीक्षा: भारतीय संदर्भ में यौन क्रिया को कार्य मानने का समालोचनात्मक विश्लेषण

प्रसंग: उच्चतम न्यायालय ने एक आदेश पारित किया है जिसमें कहा गया है कि वयस्क यौनकर्मी कानून के तहत सम्मान और समान सुरक्षा के हकदार हैं।

कानूनी प्रावधानों पर प्रकाश डालना:

  • शीर्ष न्यायालय ने एक ऐतिहासिक फैसले में पुलिस को संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत प्रतिष्ठित सम्मानजनक जीवन के अधिकार के प्रावधानों को कायम रखने को समर्थन देते हुए यौनकर्मियों के अधिकारों का सम्मान करने का निर्देश दिया है।
  • यौनकर्मियों की लंबे समय से यह मांग रही है कि उनके काम को अपराध से मुक्त किया जाए।
  • अदालत ने बुद्धदेव कर्मकार मामले के फैसले को सामने रखा था जो यौनकर्मियों को सम्मान के साथ जीने का अधिकार प्रदान करता है।
  • न्यायालय ने अनुच्छेद 142 के तहत यौनकर्मियों के अधिकारों को मान्यता देने के लिए दिशा-निर्देश जारी करने और एक विधायी सुरक्षा लागू होने तक मानव तस्करी को रोकने के लिए शक्तियों का प्रयोग किया।
  • न्यायालय ने तस्करी (रोकथाम, संरक्षण और पुनर्वास) विधेयक को लागू करने हेतु सरकार को प्रोत्साहित करने के लिए महत्वपूर्ण प्रयास किए हैं।

न्यायालय का निर्देश:

  • उच्चतम न्यायालय ने छह सप्ताह की अवधि के भीतर यौनकर्मियों के अधिकारों को मान्यता देने के फैसले पर सरकार से जवाब मांगा है।
  • न्यायालय ने मानव शालीनता की बुनियादी सुरक्षा और यौनकर्मियों और उनके बच्चों की गरिमा के विस्तार को बनाए रखने के अपने दृढ़ संकल्प से अवगत कराया है।
  • राज्य सरकारों को अनैतिक दुर्व्यापार निवारण अधिनियम के तहत सुरक्षात्मक घरों का सर्वेक्षण करने के लिए कहा गया है, जो भारत में यौन कार्य को नियंत्रित करने वाले कानून का उदाहरण है। इस क़ानून के तहत वेश्यालय चलाने, सार्वजनिक स्थान पर यह उपलब्ध कराने, सेक्स वर्कर की कमाई से जीने और उसके साथ रहने या आदतन रहने जैसे कृत्यों को दंडित किया जाता है।

एक दयालु समाज के लिए मार्ग:

  • उच्चतम न्यायालय के आदेश से हम जिस सभ्य समाज में रहते हैं उसमें करुणा की भावना आनी चाहिए तथा पुलिस, मीडिया और लोगों को सभी संकीर्णताओं से ऊपर उठकर परिवर्तनकारी यात्रा की ओर अग्रसर होना चाहिए।
  • ऐसे परिवर्तित समाज में यौनकर्मियों सहित प्रत्येक व्यक्ति के अधिकारों को समझा जाना चाहिए तथा सभी की गरिमा की रक्षा होनी चाहिए।
  • इसलिए, यह सहमति देने वाली यौनकर्मियों के वैध हितों की रक्षा के लिए कानून बनाने, उन्हें सामाजिक कलंक से मुक्त करने, यौन संचारित रोगों के संचरण को रोकने के लिए उचित स्वास्थ्य सुरक्षा लाभ प्रदान करने और उन्हें कानून बनाने की प्रक्रिया में शामिल करना काफी हद तक सरकार पर निर्भर करता है।

सारांश: यौनकर्मियों को प्रभावी कानूनी सुरक्षा प्रदान करना आवश्यक हो जाता है जो उन्हें सामाजिक कलंक से मुक्त करे और सम्मान के साथ जीने के उनके अधिकारों की रक्षा करें।

प्रीलिम्स तथ्य:

  1. सेला मकाक (मकाका सेलाई)

विषय: जैवविविधता

प्रारंभिक परीक्षा: सेला मकाक से संबंधित तथ्य

प्रसंग:

  • अरुणाचल प्रदेश में प्राचीन बंदर की एक नई प्रजाति पाई गई है।

सेला मकाक (मकाका सेलाई)

  • यह एक नवीन प्राइमेट है जिसकी पहचान और विश्लेषण जूलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (ZSI) और कलकत्ता विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों की एक टीम ने किया था।
  • इसका नाम “सेला दर्रा” के नाम पर रखा गया है, जो समुद्र तल से 13,700 फीट ऊपर एक सामरिक पहाड़ी दर्रा है जो तवांग को दिरांग और गुवाहाटी से जोड़ता है।
  • विश्लेषण से पता चला है कि सेला मकाक, तवांग जिले के अरुणाचल मकाक (मकाका मुंजाला) से सेला दर्रे द्वारा भौगोलिक रूप से अलग थे
    • इस दर्रे ने इन दो प्रजातियों के प्रवास को लगभग दो मिलियन वर्षों तक प्रतिबंधित करके एक बाधा के रूप में कार्य किया।
  • आनुवंशिक रूप से सेला मकाक एवं अरुणाचल मकाक में काफी समानता है क्योंकि दोनों प्रजातियों का आकार बड़ा और इनके शरीर के बाल लंबे होते हैं।
    • दोनों प्रजातियों के बीच अंतर: सेला मकाक का शरीर पीला और बाल भूरा होता है जबकि अरुणाचल मकाक का शरीर गहरा भूरा और बाल भूरा होता है।
  • अध्ययनों से पता चलता है कि सेला मकाक की पूंछ तिब्बती मकाक, असमिया मकाक, अरुणाचल मकाक और सफेद गाल वाले मकाक से लंबी होती है, लेकिन बोनट मकाक और टोक मकाक की तुलना में छोटी होती है।
  • सेला मकाक, मकाक के साइनिका प्रजाति-समूह से संबंधित है, लेकिन इसमें भूरे रंग के गर्दन के बाल और थूथन, व ठोड़ी की मूंछों की अनुपस्थिति जैसी विशिष्ट विशेषताएं होती हैं।

महत्वपूर्ण तथ्य:

  1. डेटा सुरक्षा में सुधार हेतु आईआईएससी द्वारा उपकरण का विकास
  • भारतीय विज्ञान संस्थान (IIS) के इंजीनियरों की एक टीम ने एक ट्रू रैंडम नंबर जेनरेटर (TRNG) विकसित किया है, जो डेटा एन्क्रिप्शन को बढ़ा सकता है और गोपनीय डिजिटल डेटा जैसे क्रेडिट कार्ड विवरण, पासवर्ड और अन्य व्यक्तिगत जानकारी के लिए बेहतर सुरक्षा प्रदान कर सकता है।
  • इस एन्क्रिप्शन की क्षमता क्रिप्टोग्राफिक कुंजी के एक भाग के रूप में उत्पन्न यादृच्छिक संख्याओं की गुणवत्ता पर निर्भर करती है, लेकिन ये आमतौर पर गणितीय सूत्रों या पूर्व-क्रमादेशित तालिकाओं के आधार पर कंप्यूटर द्वारा उत्पन्न होते हैं, जबकि TRNG स्वाभाविक रूप से यादृच्छिक भौतिक प्रक्रियाओं से यादृच्छिक संख्या उत्पन्न करता है, जिससे यह अधिक सुरक्षित हो जाता है।
  • TRNG में एक कृत्रिम इलेक्ट्रॉन जाल है जिसका निर्माण ब्लैक फास्फोरस और ग्रेफीन जैसी सामग्री के परमाणुओं की-पतली परतों को रखकर किया गया है ।
    • जैसे-जैसे इलेक्ट्रॉन इसमें फंसता है और निर्मुक्त होता है, डिवाइस से मापी गई धारा बढ़ती और घटती है। चूंकि इलेक्ट्रॉनों की गति यादृच्छिक होती है, इसलिए मापी गई धारा भी यादृच्छिक रूप से बदलती है। इस परिवर्तन समय से उत्पन्न यादृच्छिक संख्या का निर्धारण होता है।
  • मिन-एन्ट्रॉपी एक पैरामीटर है जिसका उपयोग TRNG के प्रदर्शन को मापने के लिए किया जाता है।
  • इसका मान 0 (पूरी तरह से अनुमानित) से लेकर 1 (पूरी तरह से यादृच्छिक) तक होता है।
  • IIS के इस TRNG में 0.98 की रिकॉर्ड-उच्च न्यूनतम-एन्ट्रॉपी देखी गई है।
  1. मैं हर हाथ में फोन और हर खेत में ड्रोन देखना चाहता हूं: प्रधानमंत्री
  • प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रौद्योगिकी का उपयोग एक “पुल” के रूप में गरीबों तक सरकारी लाभ पहुंचाने के लिए किया गया है।
  • प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि हर हाथ में मोबाइल फोन, हर खेत में ड्रोन और हर घर में समृद्धि उनका सपना है।
  • प्रधानमंत्री ने आगे कहा कि वह इस तथ्य को स्वीकार करते हैं कि प्रौद्योगिकी व्यवधान उत्पन्न करती है, लेकिन यह नए अवसरों को भी खोलती है क्योंकि जन धन, आधार और मोबाइल की “जैम ट्रिनिटी” से सरकार को पूरी पारदर्शिता के साथ योजनाओं को वितरित करने में सहायता मिली।
  1. उन्नत ज्ञान और ग्रामीण प्रौद्योगिकी क्रियान्वयन (AKRUTI) कार्यक्रम
  • न्यूक्लियर पावर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड उन्नत ज्ञान और ग्रामीण प्रौद्योगिकी क्रियान्वयन (AKRUTI) कार्यक्रम के माध्यम से तारापुर परमाणु ऊर्जा स्टेशन के पास रहने वाले बेरोजगार युवाओं की मदद कर रहा है।
  • निगम अब कुडनकुलम परमाणु संयंत्र के पास के गांवों में इसी तरह का कार्यक्रम शुरू करने की योजना बना रहा है।
  • भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र परमाणु विज्ञान, रेडियो आइसोटोप, उद्योग, स्वास्थ्य और कृषि के क्षेत्र में नई, उपयोगकर्ता के अनुकूल और लागत प्रभावी प्रौद्योगिकियों का विकास कर रहा है और बेरोजगार युवाओं को उद्यमी बनाने के लिए इन प्रौद्योगिकियों को सिखाया जा रहा है।
  • उदाहरण: AKRUTI कार्यक्रम में लागत प्रभावी फोल्डेबल ड्रायर का प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, जिसका उपयोग फलों, सब्जियों और मछलियों को सुखाने के लिए किया जा सकता है।

UPSC प्रारंभिक परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

प्रश्न 1. अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

  1. यह पुरस्कार लंदन स्थित नोमुरा धर्मार्थ ट्रस्ट (Nomura Charitable Trust) द्वारा दिया जाता है।
  2. यह किसी अन्य भाषा में लिखी गई और अंग्रेजी में अनुवादित एक पुस्तक के लिए प्रतिवर्ष प्रदान किया जाता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 2
  3. दोनों
  4. इनमें से कोई भी नहीं

उत्तर:

विकल्प b

व्याख्या:

  • कथन 1 सही नहीं है, अंतर्राष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, बुकर प्राइज़ फाउंडेशन द्वारा दिया जाता है
  • कथन 2 सही है, 2016 से इसे प्रतिवर्ष एक ऐसी पुस्तक को दिया जाता है जिसे किसी अन्य भाषा में लिखा गया हो और उसे अंग्रेजी में अनुवादित किया गया है तथा यूनाइटेड किंगडम या आयरलैंड में प्रकाशित किया गया हो।

प्रश्न 2. चर्चा में रहा व्यापक-आधारभूत व्यापार एवं निवेश समझौता (BTIA) भारत और निम्नलिखित में से किस के बीच का व्यापार समझौता वार्ता है ?

  1. अमेरीका
  2. खाड़ी सहयोग परिषद
  3. यूरोपीय संघ
  4. अफ्रीकी संघ

उत्तर:

विकल्प c

व्याख्या:

  • चर्चा में रहा व्यापक-आधारभूत व्यापार एवं निवेश समझौता (BTIA) भारत और यूरोपीय संघ के बीच व्यापार वार्ता है
  • BTIA एक व्यापक व्यापार व्यवस्था है जो वस्तुओं, सेवाओं और निवेश में व्यापार के कई कारकों को कवर करती है।

प्रश्न 3. आकृति (AKRUTI) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं?

  1. यह भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (BARC) द्वारा प्रस्तुत एक कार्यक्रम है।
  2. यह ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को उद्यमी बनने में मदद करने हेतु सामाजिक और औद्योगिक लाभों के लिए गैर-विद्युत अनुप्रयोग (non-power applications) और व्युत्पन्न (स्पिन-ऑफ) प्रौद्योगिकी प्रदान करता है।

विकल्प:

  1. केवल 1
  2. केवल 2
  3. दोनों
  4. इनमें से कोई भी नहीं

उत्तर:

विकल्प c

व्याख्या:

  • कथन 1 सही है, आकृति या उन्नत ज्ञान और ग्रामीण प्रौद्योगिकी कार्यक्रम, भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र (BARC) द्वारा प्रस्तुत एक कार्यक्रम है।
  • कथन 2 सही है, यह शहरी और ग्रामीण अपशिष्ट प्रबंधन के माध्यम से जल, कृषि, खाद्य प्रसंस्करण और कृषि-भूमि सुधार के क्षेत्र में गैर-विद्युत् अनुप्रयोग (NPAs) और स्पिन-ऑफ प्रौद्योगिकियां प्रदान करता है, जो उद्यमी बनने में ग्रामीण क्षेत्र के लोगों की सहायता करता है।

प्रश्न 4. निम्नलिखित में से कौन से पर्वत दर्रे अरुणाचल प्रदेश में स्थित हैं?

  1. बोमडी-ला दर्रा
  2. दीफू दर्रा
  3. पंगसौ दर्रा
  4. सेला दर्रा

विकल्प:

  1. केवल 1, 2 और 3
  2. केवल 2, 3 और 4
  3. केवल 1, 3 और 4
  4. 1, 2, 3 और 4

उत्तर:

विकल्प d

व्याख्या:

  • बोमडी-ला दर्रा – अरुणाचल प्रदेश को तिब्बत की राजधानी ल्हासा से जोड़ता है।
  • दीफू दर्रा – अरुणाचल प्रदेश को म्यांमार में मांडले से जोड़ता है।
  • पंगसौ दर्रा – अरुणाचल प्रदेश को म्यांमार से जोड़ता है।
  • सेला दर्रा – अरुणाचल प्रदेश के तवांग को दिरांग और गुवाहाटी से जोड़ता है।

प्रश्न 5. प्रकृति में, निम्नलिखित में से किस जीव का/किन जीवों के मृदाविहीन सतह पर जीवित पाए जाने की सर्वाधिक संभावना है?

  1. फर्न
  2. लाइकेन
  3. मॉस
  4. छत्रक (मशरूम)

निम्नलिखित कूट का प्रयोग कर सही उत्तर का चयन कीजिए।

  1. केवल 1 और 4
  2. केवल 2
  3. केवल 2 और 3
  4. केवल 1, 3 और 4

उत्तर:

विकल्प c

व्याख्या:

  • लाइकेन और मॉस लगभग हर जगह जैसे चट्टानों, जमीन आदि पर पाए जाते हैं। इस प्रकार यह सबसे अधिक दिखाई देते हैं।
  • अत: विकल्प c सही है।

UPSC मुख्य परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

  1. अम्बेडकर के द्वारा किए गए संघर्ष अभी खत्म नहीं हुए हैं। टिप्पणी कीजिए। (250 शब्द; 15 अंक) (सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र II – सामाजिक न्याय)
  2. मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में बेहतर जागरूकता से महिलाओं के सम्मान के साथ जीने के अधिकार की लड़ाई की आधी जीत होगी। इस संदर्भ में भारत सरकार द्वारा किए गए प्रयासों का विस्तार से वर्णन कीजिए। (250 शब्द; 15 अंक) (सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र II सामाजिक न्याय)

Leave a Comment

Your Mobile number and Email id will not be published.

*

*