CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon
MyQuestionIcon
Question

Consider the following statements:
1. The Reserve Bank of India manages and services Government of India Securities but not any State Government Securities.
2. Treasury bills are issued by the Government of India and there are no treasury bills issued by the State Governments.
3. Treasury bills offer are issued at a discount from the par value.
Which of the statements given above is/are correct?

निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. भारतीय रिज़र्व बैंक भारत सरकार की प्रतिभूतियों का प्रबंधन और देख-भाल करता है, लेकिन किसी राज्य सरकार के प्रतिभूति का नहीं।
2. ट्रेजरी बिल भारत सरकार द्वारा जारी किए जाते हैं और राज्य सरकारों द्वारा किसी प्रकार का ट्रेजरी बिल नहीं जारी किया जाता है।
3. ट्रेजरी बिल ऑफर सममूल्य पर छूट के रूप में जारी की जाती है।
ऊपर दिए गए कथनों में कौन सा/से सही है / हैं?

A
1 and 2 only

केवल 1 और 2
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
B
3 only

केवल 3
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
C
2 and 3 only

केवल 2 और 3
Right on! Give the BNAT exam to get a 100% scholarship for BYJUS courses
D
1,2and 3

1,2 और 3
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
Open in App
Solution

The correct option is C 2 and 3 only

केवल 2 और 3
Statement 1 is incorrect: The Reserve Bank of India manages and services Government of India and State Government Securities.

Statement 2 and 3 are correct: Treasury bills are issued by GOI only and not by state governments. T-bills are issued through a competitive bidding process at a discount from par, which means that rather than paying fixed interest payments like conventional bonds, the appreciation of the bond provides the return to the holder.

कथन 1 गलत है: भारतीय रिजर्व बैंक भारत सरकार और राज्य सरकारों के प्रतिभूति का प्रबंधन और देख-भाल करता है।

कथन 2 और 3 सही हैं:ट्रेजरी बिल केवल भारत सरकार द्वारा जारी किए जाते हैं, न कि राज्य सरकारों द्वारा।ट्रेजरी बिल को प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया के माध्यम से सममूल्य पर छूट के रूप में जारी किया जाता है,जिसका अर्थ है कि पारंपरिक बांड की तरह निश्चित ब्याज का भुगतान करने के बजाय, बांड का अभिमूल्यन धारक को प्रतिदान प्रदान करता है।

flag
Suggest Corrections
thumbs-up
2
BNAT
mid-banner-image
similar_icon
Similar questions
View More