CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon
MyQuestionIcon
Question

Q. Which among the following examples of India's rich cultural traditions, belong to the Mauryan period?

Select the correct answer using the code given below:

Q. भारत की समृद्ध सांस्कृतिक परंपराओं के निम्नलिखित उदाहरणों में से कौन मौर्य काल से संबंधित है? नीचे दिए गए कूट का उपयोग करके सही उत्तर चुनें:

A

1 and 4 only
केवल 1 और 4
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
B

2, 3 and 4 only
केवल 2, 3 और 4
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
C

1, 2 and 3 only
केवल 1, 2 और 3
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
D

1, 2, 3 and 4
1, 2, 3 और 4
Right on! Give the BNAT exam to get a 100% scholarship for BYJUS courses
Open in App
Solution

The correct option is D
1, 2, 3 and 4
1, 2, 3 और 4
Explanation:

All the above examples belong to the Mauryan period.(324 BC - 180 BC).

Statement 1 is correct: Yakshini at Didarganj:The worship of yakshas and mother -goddesses were prevalent in Mauryan times. The standing image of a Yakshini holding a chauri (flywhisk) from Didarganj near modern Patna is one of the good examples of the sculptural tradition of the Mauryan Period.

Statement 2 is correct: The Mauruan period also saw development of rock cut architecture and sculptures. One of these examples is the monumental rock-cut elephant at Dhauli in Orissa. It also has an Ashokan rock-edict.

Statement 3 is correct: Lomus Rishi cave: These are rock-cut caves carved at Barabar hills near Gaya in Bihar. The cave was patronised by Ashoka for the Ajivika sect.

Statement 4 is correct: Sanchi stupa: The great stupa at Sanchi was built with bricks during the time of Ashoka and later it was covered with stone and many new additions were made.

व्याख्या:

उपरोक्त सभी उदाहरण मौर्य काल के हैं। (324 ईसा पूर्व - 180 ईसा पूर्व)।

कथन 1 सही है: दीदारगंज में यक्षिणी: मौर्य काल में यक्षों और माता-देवियों की पूजा प्रचलित थी। आधुनिक पटना के पास दीदारगंज से एक चौरी (फ्लाईविस्क) पकड़े यक्षिणी की खड़ी छवि मौर्य काल की मूर्तिकला परंपरा के अच्छे उदाहरणों में से एक है।

कथन 2 सही है: मौर्य काल में रॉक-कट वास्तुकला और मूर्तियों का विकास भी देखा गया था। इन उदाहरणों में से एक उड़ीसा के धौली में स्थित स्मारक रॉक-कट हाथी है। इसमें एक अशोकन रॉक-एडिक्ट भी है।

कथन 3 सही है: लोमस ऋषि गुफा: ये बिहार में गया के पास बाराबर पहाड़ियों पर खुदी हुई चट्टानें हैं। इस गुफा को अशोक ने अजीविका संप्रदाय के लिए संरक्षण दिया था।

कथन 4 सही है: साँची का स्तूप: साँची का महान स्तूप अशोक के समय में ईंटों से बनाया गया था और बाद में इसे पत्थर से ढक दिया गया था और इसमें कई अतिरिक्त नई रचनाएँ बनाई गई थी ।

flag
Suggest Corrections
thumbs-up
0
BNAT
mid-banner-image