CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon
MyQuestionIcon
Question

भाषा का विकास पहले हुआ, अक्षर और लिपि का बाद में। बोली गई भाषा को अक्षरों की मदद से लिखा जा सकता है। कई लोग ऐसे भी होते हैं जो अक्षर नहीं पहचानते, पर भाषा अच्छी तरह जानते हैं।

ऊपर की पंक्तियों को ध्यान में रखते हुए भाषा और अक्षर के संबंधों के बारे में एक अनुच्छेद लिखो।

Open in App
Solution

मनुष्य की उत्पत्ति के साथ ही भाषा का आरम्भ हुआ। आरम्भ में मनुष्य आदिमानव था, उसका मानसिक विकास नहीं हुआ था। वह अपनी बात को समझाने के लिए इशारों ध्वनि संकेतों का सहारा लेता था। परन्तु जैसे-जैसे आदिमानव का मानसिक विकास होता गया उन संकेतों ध्वनि संकेतों का भी विकास होता गया और वे विचारों को भली-भाँति व्यक्त करने में सक्षम हो गए। इसी तरह भाषा का विकास हुआ। इसके बाद मनुष्य अपने विचारों अनुभवों को लिखकर व्यक्त करने के लिए प्रेरित होने लगा और उसने गुफ़ाओं पत्थरों पर चित्र संकेतों द्वारा अपने विचारों को व्यक्त करना आरम्भ किया। अब वो देवी-देवताओं, सूर्य - चन्द्रमा के द्वारा और ज़्यादा सहज भाव से अपनी अभिव्यक्ति को अंकित करने लगा और इसी विकास के क्रम ने अक्षरों को जन्म दिया। इसी के साथ मनुष्य ने इतिहास को अक्षरों की सहायता से लिपिबद्ध करना आरम्भ किया। आज विश्व के हर कोने में अनेकों भाषायें बोली जाती हैं और उन्हें लिपिबद्ध किया जाता है। यदि मनुष्य ने भाषा की खोज नहीं की होती तो हमें आज अक्षरों का भी ज्ञान नहीं होता। ये दोनों एक दूसरे के पूरक हैं एक के बिना दूसरे का कोई अस्तित्व नहीं है। यदि मनुष्य को भाषाओं का ज्ञान है तो वो दूसरे मनुष्यों को अपनी बात समझा सकता है परन्तु अगर उसको अक्षरों का ज्ञान नहीं है तो वो अपने विचारों और अनुभवों को लिख नहीं सकता या फिर दूर बैठे अपने किसी सम्बन्धी को अपना समाचार भेज नहीं सकता, अपने अनुभवों को लिख नहीं सकता परन्तु अगर इसके विपरीत उसे अक्षरों का ज्ञान है तो वो भावों, विचारों को अच्छी तरह से व्यक्त कर सकता हैक्योंकि अक्षरों के इसी ज्ञान से हमें आज हमारे इतिहास के बारे में इतनी जानकारियाँ उपलब्ध है। आज किसी भी देश जाति, धर्म जगह से सम्बन्धित जानकारियाँ हमें मनुष्य द्वारा लिपिबद्ध की गई पुस्तकों से प्राप्त होती है; अन्यथा अगर भाषा अक्षरों का विकास हुआ होता तो हमें इन महत्वपूर्ण जानकारियों से वंचित रहना पड़ता और हम अपने इतिहास के बारे में हमेशा अनभिज्ञ रहते। इसी भाषा और अक्षरों के ज्ञान ने मनुष्यों को सभी जीवों में श्रेष्ठ बनाया है।


flag
Suggest Corrections
thumbs-up
1
BNAT
mid-banner-image