CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon
MyQuestionIcon
Question

नीचे दिए गए परिच्छेद को पढ़िए और परिच्छेद के नीचे दिए गए प्रश्न के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नों के लिए आपके उत्तर केवल इन्हीं परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

“....... अधिकांश लोग सहमत होंगे कि शायद ऐसी कुछ विशेष परिस्थितियों को छोड़कर, जहाँ सत्य बोलने से अधिक हानि होगी, जान-बूझकर असत्य बोलना ग़लत है। यहाँ तक कि सर्वाधिक सत्यवादी लोग संभवतः बहुत सारे असत्य बोलते हैं, जिन्हें अर्थ-विषयक (सिमेंटिक) असत्य माना जा सकता है; उनके शब्द-प्रयोग में कुछ मात्रा में असत्य होता है, जो कमोबेश सोचा-समझा होता है।”

Q. इस परिच्छेद के प्रथम अंश में, किस विचार का उल्लेख किया गया है?


A
असत्य बोलने के संबंध में सहमति
Right on! Give the BNAT exam to get a 100% scholarship for BYJUS courses
B
असत्य बोलने के संबंध में असहमति
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
C
सत्य बोलने के संबंध में असहमति
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
D
सत्य बोलने से होने वाली हानि के संबंध में असहमति
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
Open in App
Solution

The correct option is A असत्य बोलने के संबंध में सहमति
असत्य बोलने के संबंध में सहमति

flag
Suggest Corrections
thumbs-up
0
similar_icon
Similar questions
Q.

नीचे दिए गए परिच्छेद को पढ़िए और परिच्छेद के नीचे दिए गए प्रश्न के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नों के लिए आपके उत्तर केवल इन्हीं परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

मैं एक वैज्ञानिक हूं, जो विज्ञान के उपकरणों का उपयोग करके प्रकृति को समझने की कोशिश करता है, मेरे लिए सौभाग्य की बात है। लेकिन यह भी स्पष्ट है कि कुछ ऐसे महत्वपूर्ण प्रश्न हैं जिनका उत्तर विज्ञान वास्तव में नहीं दे सकता है, जैसे: शून्य के स्थान पर कुछ क्यों है? हम यहां क्यों आए हैं? उन क्षेत्रों में, मैंने पाया है कि विश्वास उत्तर के लिए एक बेहतर मार्ग प्रदान करता है। मुझे यह अजीब तरह से कालानुक्रमिक लगता है कि आज की संस्कृति में एक व्यापक धारणा प्रतीत होती है कि वैज्ञानिक और आध्यात्मिक विचार असंगत हैं।

Q. निम्नलिखित में से कौन सा सबसे तार्किक और तर्कसंगत अनुमान है जो उपरोक्त परिच्छेद से बनाया जा सकता है?


Q.

नीचे दिए गए परिच्छेद को पढ़िए और परिच्छेद के नीचे दिए गए प्रश्न के उत्तर दीजिए। इन प्रश्नों के लिए आपके उत्तर केवल इन्हीं परिच्छेदों पर ही आधारित होने चाहिए।

अभिजातीय शासन स्वयं को उस दायरे में अत्यधिक रूप से सीमाबद्ध करके विनष्ट कर लेता है, जिस दायरे में सत्ता सीमित होती है; अल्पतंत्रीय शासन तात्कालिक धन प्राप्ति के लिए असावधानीपूर्वक संघर्ष कर स्वयं को विनष्ट करता है। यहाँ तक कि, लोकतंत्र के अतिरेक से लोकतंत्र भी स्वयं को विनष्ट करता है। इसका मूलभूत सिद्धांत यह है कि पद धारण करने और लोक नीति निर्धारण करने का सबको समान अधिकार है। प्रथम दृष्टि में, यह एक सुखद व्यवस्था है; किंतु यह विनाशकारी बन जाता है, क्योंकि लोग समुचित रूप से शिक्षित नहीं होते हैं कि वे उत्तम शासकों और सर्वाधिक विवेकपूर्ण मार्ग का चयन कर सकें। लोगों को समझ नहीं होती है और वे केवल वही दोहराते हैं जो उनके शासक उन्हें कहना पसंद करते हैं। ऐसा लोकतंत्र, निरंकुश शासन या स्वेच्छाचारी शासन होता है। - प्लेटो।

Q. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन उपर्युक्त परिच्छेद के मर्म को सर्वोत्तम रूप से दर्शाता है?


View More
Join BYJU'S Learning Program
similar_icon
Related Videos
thumbnail
lock
HISTORY
Watch in App
Join BYJU'S Learning Program
CrossIcon