CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon


Question

Q. Consider the following statements:
1. Historically, unemployment in India is the result of deficiency of effective demand in Keynesian terms.
2. The nature of unemployment usually differs sharply in a developed and developing country.
Which of the statements given above is/are correct?

Q. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:
1. कीन्स के शब्दों में भारत में ऐतिहासिक रूप से बेरोजगारी प्रभावी मांग की कमी का परिणाम है।
2. बेरोजगारी की प्रकृति आमतौर पर एक विकसित और विकासशील देश में काफी भिन्न होती है।
ऊपर दिए गए कथनों में कौन सा/से सही है / हैं?


A

1 Only 
केवल 1
loader
B

2 Only 
केवल 2
loader
C

Both 1 and 2 
1 और 2 दोनों
loader
D

Neither 1 nor 2
न तो 1 न ही 2
loader

Solution

The correct option is B
2 Only 
केवल 2
statement 1 is incorrect.
Unemployment problem in India is not the result of deficiency of effective demand in Keynesian terms but due to shortage of capital and skilled human resources and other complementary resources accompanied by high growth of population.
statement 2 is correct.
The nature of unemployment differs sharply in a developed and developing country. While developing countries like India mostly face structural unemployment, developed countries mostly face involuntary and frictional unemployment.
 

कथन 1 गलत है।

भारत में बेरोजगारी की समस्या कीनेसियन संदर्भों में प्रभावी मांग की कमी का परिणाम नहीं है, बल्कि पूंजी और कुशल मानव संसाधनों और अन्य पूरक संसाधनों की कमी के साथ साथ  जनसंख्या की उच्च वृद्धि भी जिम्मेदार  है।

कथन 2 सही है।

बेरोजगारी की प्रकृति में विकसित और विकासशील देश में बड़ा अंतर होता है।  भारत जैसे विकासशील देश ज्यादातर संरचनात्मक बेरोजगारी का सामना करते हैं जबकि विकसित देश ज्यादातर अनैच्छिक और घर्षण बेरोजगारी का सामना करते हैं।


All India Test Series

Suggest Corrections
thumbs-up
 
0


similar_icon
Similar questions
View More



footer-image