CameraIcon
CameraIcon
SearchIcon
MyQuestionIcon
MyQuestionIcon
Question

Read the following passage and answer the question that follows.

The Hague Peace Conference of 1899, convened on the initiative of the Russian Czar Nicholas II, marked the beginning of a third phase in the modern history of international arbitration. The chief object of the Conference, in which — a remarkable innovation for the time — the smaller States of Europe, some Asian States and Mexico also participated, was to discuss peace and disarmament. It culminated in the adoption of a Convention on the Pacific Settlement of International Disputes, which dealt not only with arbitration but also with other methods of pacific settlement, such as good offices and mediation.

Q. What is the significance of the Hague peace conference of 1899?

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर प्रश्न का उत्तर दें:

रूसी जार निकोलस II की पहल पर आयोजित 1899 का हेग शांति सम्मेलन,अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता के आधुनिक इतिहास में तीसरे चरण की शुरुआत के रूप में चिह्नित है।सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य, जिसमें उस समय के यूरोप के छोटे राज्य, कुछ एशियाई राज्यों और मेक्सिको ने भी भाग लिया के लिए एक उल्लेखनीय नवाचार शांति और निरस्त्रीकरण पर चर्चा करना था।इसका अंत अंतरराष्ट्रीय विवादों के पैसिफिक सेटलमेंट पर एककन्वेंशन को अपनाने के साथ हुआ जो न केवल मध्यस्थता के साथ, बल्कि बेहतर निपटान के अन्य तरीकों से भी संबंधित है।

Q. 1899 के हेग शांति सम्मेलन का क्या महत्व है?

A

It was a discussion on International Peace and Disarmament.
यह अंतर्राष्ट्रीय शांति और निरस्त्रीकरण पर एक चर्चा थी।
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
B

It resulted in the adoption of a Convention on the Pacific Settlement of International Disputes.
इसके परिणामस्वरूप अंतर्राष्ट्रीय विवादों के पैसिफिक सेटलमेंट पर एक कन्वेंशन को अपनाया गया।
Right on! Give the BNAT exam to get a 100% scholarship for BYJUS courses
C

It saw the participation of smaller states of Europe, Asian states and Mexico.
इसमें यूरोप के छोटे राज्यों, एशियाई राज्यों और मेक्सिको की भागीदारी देखी गई।
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
D

It resulted in the beginning of international arbitration.
इसका परिणाम अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता की शुरुआत के रूप में हुआ।
No worries! We‘ve got your back. Try BYJU‘S free classes today!
Open in App
Solution

The correct option is B
It resulted in the adoption of a Convention on the Pacific Settlement of International Disputes.
इसके परिणामस्वरूप अंतर्राष्ट्रीय विवादों के पैसिफिक सेटलमेंट पर एक कन्वेंशन को अपनाया गया।
Option (a) cannot be the right answer as the discussion itself will not show the significance of the event. However, option (b) talks about the adoption of a Convention on the Pacific Settlement of International Disputes, which is definitely the outcome. Hence, Option (b) will be the right answer. Option (c) is less significant compared to the outcome. Option (d) is an incorrect statement as it was the third phase of international arbitration.

विकल्प (a) सही उत्तर नहीं हो सकता है क्योंकि चर्चा स्वयं घटना के महत्व को नहीं दिखाएगी। हालांकि, विकल्प (b) ‘कन्वेंशन ऑन दी पैसिफिक सेटलमेंट ऑफ़ इंटरनेशनल डिस्प्यूट्स’ (Convention on the Pacific Settlement of International Disputes) को अपनाने की बात करता है, जो निश्चित रूप से इस कांफ्रेंस का एक परिणाम है। इसलिए, विकल्प (b) सही उत्तर होगा। विकल्प (c) इस कांफ्रेंस के परिणाम की तुलना में कम महत्वपूर्ण है। विकल्प (d) एक गलत कथन है क्योंकि यह अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता का तीसरा चरण था।

flag
Suggest Corrections
thumbs-up
0
BNAT
mid-banner-image
similar_icon
Similar questions
Q. Q. With reference to the United Nations Convention to Combat Desertification (UNCCD), Conference of parties (Cop-14), consider the following statements:

1. UNCCD is the sole legally binding international agreement linking environment and development to sustainable land management.
2. During this conference, African countries launched the Peace Forest Initiative.
3. During this conference, the Initiative of Sustainability, Stability and Security (3S) was launched to address the migration driven by land degradation.

Which of the above given statements is/are correct?


Q. संयुक्त राष्ट्र के कॉम्बैट डेजर्टिफिकेशन (UNCCD) कन्वेंशन पर पार्टियों के सम्मेलन (Cop-14) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:

1. UNCCD पर्यावरण और विकास को स्थायी भूमि प्रबंधन से जोड़ने वाला एकमात्र कानूनी रूप से बाध्यकारी अंतर्राष्ट्रीय समझौता है।
2. इस सम्मेलन के दौरान, अफ्रीकी देशों ने शांति वन पहल शुरू की।
3. इस सम्मेलन के दौरान, भूमि क्षरण द्वारा संचालित प्रवासन को संबोधित करने के लिए स्थिरता, स्थिरता और सुरक्षा (3S) की पहल शुरू की गई थी।

उपरोक्त कथनों में से कौन सा/से सही है / हैं?

Q. Read the following passage and answer the question that follows.

Pacifism is the broad commitment to making peace. The idea is complicated by the fact that peace is a family resemblance term: there are many varieties of peace. Peace is easiest to define dialectically as the opposite of war or violence. Pacifism has thus been described simply as anti-warism or as commitment to nonviolence. One conceptual difficulty here is that when peace is defined negatively, pacifism appears as a reactionary response to war and violence. Discussions of peace thus often employ negative terms and creative neologisms to express the concept of peace: “nonviolence,” “nonwar,” “nonkilling,” “non-conflict,” or “nonwar.” Peace advocates will, however, insist that peace should be understood as a primary concept connected to cooperation, harmony, and positive human relations and that it is a mistake to understand peace in merely negative terms. At any rate, peace scholarship has long emphasized the distinction between negative peace and positive peace: negative peace is the absence of violence or war while positive peace encompasses cooperative, tranquil, and harmonious relations and the broader concerns of human flourishing and integration.

Q. On the basis of the above passage, the following statements have been made

1. The simplest explanation of pacifism can be said an opposite to war or violence
2. Peace should be connected to cooperation and harmony and attributing a negative term to it is wrong.

Which of the above statements is/are above valid?

निम्नलिखित गद्यांश को पढ़कर प्रश्न का उत्तर दें:

पैसिफिज्म कायम करने के लिए शांतिप्रियता एक व्यापक प्रतिबद्धता है।यह विचार इस तथ्य से पेचीदा है कि शांति एक परिवार सदृश शब्द है:शांति के कई प्रकार हैं। युद्ध या हिंसा के विपरीत रूप में तर्कपूर्ण दृष्टि से शांति को परिभाषित करना आसान है।इस प्रकार पैसिफिज्म को साधारणतः युद्ध-विरोधी या अहिंसा के प्रति प्रतिबद्धता के रूप में वर्णित किया जाता है।यहाँ एक वैचारिक कठिनाई यह है कि जब शांति को नकारात्मक रूप से परिभाषित किया जाता है, पैसिफिज्म युद्ध और हिंसा के प्रति प्रतिक्रियात्मक प्रतिक्रिया के रूप में प्रकट होता है।शांति की चर्चा अक्सर शांति की अवधारणा को व्यक्त करने के लिए नकारात्मक शब्दों और रचनात्मक रूप में की जाती है: "अहिंसा," "गैर-युद्ध," "गैर-हत्या," "गैर-संघर्ष"।हालांकि,शांति के पक्षधर जोर देते हैं कि शांति को सहयोग, सदभाव और सकारात्मक मानवीय संबंधों से जुड़ी एक प्राथमिक अवधारणा के रूप में समझा जाना चाहिए और इसे केवल नकारात्मक शब्दों में समझना एक गलती है।किसी भी कीमत पर, शांति ज्ञान ने नकारात्मक शांति और सकारात्मक शांति के बीच अंतर पर जोर दिया है:नकारात्मक शांति हिंसा या युद्ध की अनुपस्थिति है जबकि सकारात्मक शांति सहकारी, शांत,सामंजस्यपूर्ण संबंधों,मानव उत्कर्ष और एकीकरण की व्यापक चिंताओं को समाहित करती है।

Q. उपरोक्त गद्यांश के आधार पर, निम्नलिखित कथन दिए गए हैं:

1. पैसिफिज्म की सबसे सरल व्याख्या को युद्ध या हिंसा के विपरीत रूप में व्यक्त किया जा सकता है।
2. शांति को सहयोग और सदभाव से जोड़ा जाना चाहिए और इसके लिए एक नकारात्मक शब्द का प्रयोग किया जाना गलत है।

उपरोक्त कथनों में से कौन सा/से अधिक मान्य है?
View More