UPSC परीक्षा कम्प्रेहैन्सिव न्यूज़ एनालिसिस - 05 June, 2022 UPSC CNA in Hindi

05 जून 2022 : समाचार विश्लेषण

A. सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 1 से संबंधित:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

B. सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित:

अंतर्राष्ट्रीय संबंध:

  1. कार्टेल और उसके सहयोगी जो तेल की उच्च दर को बनाए रखते हैं

C. सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 3 से संबंधित:

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

  1. मंकीपॉक्स वायरस के म्युटेशन की उच्च दर

D. सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 4 से संबंधित:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

E.सम्पादकीय:

अर्थव्यवस्था:

  1. FPI भारतीय शेयरों को क्यों डंप कर रहे हैं?
  2. क्या मुद्रास्फीतिजनित मंदी (Stagflation)के डर से बाजार प्रभावित हो रहे हैं?

F. प्रीलिम्स तथ्य:

  1. तारों का तापमान

G.महत्वपूर्ण तथ्य:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

H. UPSC प्रारंभिक परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

I. UPSC मुख्य परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 3 से संबंधित:

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी:

मंकीपॉक्स वायरस के म्युटेशन की उच्च दर

विषय: विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी- विकास एवं अनुप्रयोग और रोज़मर्रा के जीवन पर इसका प्रभाव।

प्रारंभिक परीक्षा: मंकीपॉक्स वायरस

मुख्य परीक्षा: कुछ संक्रामक वायरस में उच्च म्युटेशन की दर के निहितार्थ और ऐसे संक्रमणों के निदान हेतु निवारक उपाय।

प्रसंग: इस आलेख में मंकीपॉक्स वायरस के म्यूटेशन पैटर्न का विश्लेषण किया गया है। भारत में इसका कोई भी मामला नहीं होने के बावजूद भारत के स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंकीपॉक्स वायरस से निपटने को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

मुद्दे का अवलोकन:

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने दावा किया कि 30 देशों से मंकीपॉक्स संक्रमण के मामले सामने आए हैं।
  • यह संक्रमण यूरोप और उत्तरी अमेरिका में फैला हुआ है जो मंकीपॉक्स वायरस के लिए विशेष क्षेत्र नहीं हैं।
  • समय के साथ, यूनाइटेड किंगडम, स्पेन और पुर्तगाल जैसे देशों में मंकीपॉक्स वायरस संक्रमण के मामले काफी हद तक बढ़ गए हैं।
  • संचरण के तरीके और वायरस के तीव्र प्रसार को समझने में कुछ ज्यादा ही जटिलताएँ मौजूद हैं, जिससे अटकलों के रास्ते खुलते हैं।

म्युटेशन को समझना:

  • म्युटेशन को एक जीव के आनुवंशिक सामग्री (या तो डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक एसिड या कुछ आरएनए वायरस के मामले में राइबोन्यूक्लिक एसिड) के अनुक्रम में परिवर्तन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है जिससे महत्वपूर्ण शारीरिक प्रक्रियाओं, रोगजनन और जैव रासायनिक संश्लेषण की कार्य पद्धति में परिवर्तन हो सकता है।
  • म्यूटेशन, कोशिका विभाजन के प्रतिकृति चरण (replication stage) के दौरान हो सकते हैं तथा आमतौर पर ये विभिन्न रासायनिक, पर्यावरणीय और संक्रामक कारकों से शुरू होते हैं।
  • वायरस में आमतौर पर तीव्र दर से म्यूटेट होने और दवा प्रतिरोध विकसित करने की प्रवृत्ति होती है जिसके परिणामस्वरूप नवीन वायरल प्रकोपों का उदय होता है।
  • अध्ययन में यह पाया गया कि मंकीपॉक्स वायरस के जीनोम में 47 म्युटेशन हुए हैं और यह विश्व के विभिन्न हिस्सों में वर्तमान प्रकोप के अनुक्रमों के विश्लेषण पर आधारित था।
  • ऐसा पाया गया था कि वायरस की दीर्घ अवधि तक अनुकूलता के कारण वायरस का मानव-से-मानव में संचरण हुआ। इस निष्कर्ष का कई विशेषज्ञों द्वारा विरोध किया गया है।

वायरल म्यूटेशन पर विपक्ष में तर्क:

  • कई विशेषज्ञों का कहना है कि मंकीपॉक्स वायरस में म्युटेशन की दर अभी स्पष्ट नहीं है।
  • रिपोर्ट किए गए म्यूटेशन की संख्या अन्य पॉक्सवायरस के सीमित डेटा पर आधारित है जिनका पहले अध्ययन किया गया था।
  • वायरल जीनोम में देखे गए 47 उत्परिवर्तन ने संक्रमण के प्रसार को समझने में और जटिलता उत्पन्न की है। यह संख्या अपेक्षा से काफी अधिक है और इसका मतलब यह हो सकता है कि :
    • मंकीपॉक्स वायरस के लिए म्युटेशन दर का अनुमान एक होस्ट से दूसरे होस्ट में भिन्न हो सकता है।
    • मध्यवर्ती विकासवादी मार्गों में दर भिन्न थी।
    • उनके प्रतिरूप(मंकीपॉक्स वायरस के) को इन विशिष्ट आइसोलेट्स जो म्युटेशन प्रदर्शित करते हैं के विकास का पता लगाने के लिए ठीक से अनुक्रमित नहीं किया गया है ।

सतत प्रसार: गहन अध्ययन

  • वायरल संक्रमण के दौरान, मेजबान कोशिकाएं वायरस को एंजाइमी क्रियाओं के माध्यम से गुणित होने से रोकती हैं। ऐसे एंजाइमी मार्ग से म्युटेशन में वृद्धि होती है।
  • वायरस के म्युटेशन पैटर्न और समय की क्रमिक प्रगति के साथ विशिष्ट परिवर्तनों को ध्यान में रखते हुए, कुछ विशेषज्ञ अनुमान लगाते हैं कि इसका प्रसार मानव-से-मानव संचरण के माध्यम से निरंतर रहा है।
  • मंकीपॉक्स वायरस के संचरण के पैटर्न की वास्तविक समझ काफी कम है। अब तक के साक्ष्य बताते हैं कि कई उत्परिवर्तन, एंजाइमों के एक विशिष्ट सेट के प्रोफाइल से सुमेलित हैं। हालांकि, यह अभी भी अज्ञात है कि क्या ये एंजाइम प्राथमिक मेजबान, मध्यवर्ती या मनुष्यों में पाए जाते हैं।
  • वायरस में म्युटेशन को ट्रिगर करने वाले एंजाइमी मार्ग की उत्पत्ति को निर्णायक तौर पर निर्धारण करना कठिन है।
  • कुछ विशेषज्ञ इस बात के पक्ष में तर्क देते हैं कि म्युटेशन एंजाइमी क्रियाओं द्वारा संचालित होते हैं न कि विकासवादी और अनुकूली तंत्र द्वारा। इसके विभिन्न साक्ष्य हैं कि मंकीपॉक्स म्यूटेशन के मामले में अमीनो एसिड के अनुक्रम में कोई बदलाव नहीं हुआ है और विकासवादी दबाव के सभी अनुकूलन अमीनो एसिड अनुक्रम में परिवर्तन के कारण हैं।
  • छोटी अवधि में मंकीपॉक्स वायरस में उत्परिवर्तन की उच्च दर कई प्रश्नों को जन्म देती है जिनका उत्तर केवल वायरल रोगजनन पर गहन अध्ययन के माध्यम से दिया जा सकता है जो संचरण पैटर्न को परिभाषित करने के पर्याप्त प्रमाण प्रदान करते हैं।

मंकीपॉक्स संक्रमण पर दिशानिर्देश:

  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा तैयार किया गया दस्तावेज़ मंकीपॉक्स वायरस के वैश्विक प्रसार के बारे में सटीक और प्रासंगिक जानकारी प्रदान करता है।
  • दिशा निर्देश निम्नलिखित जानकारी प्रदान करते हैं:
    • महामारी विज्ञान
    • संबंधित वायरस का प्रकार
    • वायरस की संभावित उत्पत्ति
    • उद्भवन
    • लक्षण

main.mohfw.gov.in

स्रोत: main.mohfw.gov.in

  • यह नागरिकों में जागरूकता फैलाने के लिए भारत सरकार द्वारा एक निवारक कदम है।
  • दिशानिर्देशों में सिफारिश की गई है कि संक्रमण के दौरान किसी मरीज या उनकी दूषित पदार्थ के साथ अंतिम संपर्क में आए व्यक्तियों में संकेतों / लक्षणों की शुरुआत की जाँच के लिए निगरानी 21 दिनों की अवधि तक की जानी चाहिए।
  • संदिग्ध मामलों में पिछले 21 दिनों के भीतर प्रभावित देशों की यात्रा पर गए किसी भी उम्र के व्यक्ति शामिल हैं।
  • ऐसे व्यक्ति में निम्नलिखित लक्षण होने चाहिए जैसे:
    • अस्पष्टीकृत चकत्ते
    • सूजी हुई लसीका ग्रंथियां
    • बुखार
    • शरीर दर्द
    • अत्यंत कमजोरी
    • आँख का दर्द
    • धुंधली दृष्टि
    • सीने में दर्द

main.mohfw.gov.in

स्रोत: main.mohfw.gov.in

  • एक प्रयोगशाला में या तो पोलीमरेज़ चेन रिएक्शन या अनुक्रमण द्वारा वायरल डीएनए के विशिष्ट अनुक्रमों के माध्यम से मामलों का पता लगाया जाता है।
  • दिशानिर्देशों के अनुसार, सभी नैदानिक नमूनों को जिला / राज्य के एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम (IDSP) नेटवर्क के माध्यम से ICMR-NIV पुणे की शीर्ष प्रयोगशाला में ले जाया जाना है।

उपचार:

  • चेचक के विरुद्ध काम करने वाले टीकों की प्रभावशीलता मंकीपॉक्स वायरस के खिलाफ देखी गई है।
  • टेकोविरमट (Tecovirimat) एक विशिष्ट उपचार रहा है जिसे यूएस एफडीए, हेल्थ कनाडा द्वारा चेचक के लिए अनुमोदित किया गया था।
  • हालांकि चेचक के टीके को मंकीपॉक्स के उपचार के रूप में प्रमुख रूप से नियोजित किया जाता है, लेकिन प्रभावकारिता और सुरक्षा की सीमा में अभी भी स्पष्टता का अभाव है।

सारांश:

  • एक उभरते हुए संकट मंकीपॉक्स वायरस के संचरण के तरीके के बारे में पर्याप्त साक्ष्यों की कमी को देखते हुए वायरल म्यूटेशन और संबंधित कारकों के अध्ययन में गहन वैज्ञानिक हस्तक्षेप की आवश्यकता है। भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देश, अपने नागरिकों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए प्रारंभिक चरण में वायरस के प्रकोप से निपटने के लिए एक निवारक कदम है।

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित:

अंतर्राष्ट्रीय संबंध:

कार्टेल और उसके सहयोगी जो तेल की उच्च दर को बनाए रखते हैं

विषय: महत्त्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय संस्थान

प्रारंभिक परीक्षा: OPEC+

मुख्य परीक्षा: वैश्विक तेल कीमतों को प्रभावित करने में कार्टेल की भूमिका और अधिरोपित चुनौतियों ।

प्रसंग: इस आलेख में रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे तनाव के कारण ओपेक (पेट्रोलियम निर्यातक देशों का संगठन) और उसके सहयोगियों के समक्ष आने वाली चुनौतियों पर एक विवरण प्रस्तुत किया गया है।

पृष्ठभूमि:

  • 1960 में ईरान, इराक, कुवैत, सऊदी अरब और वेनेजुएला द्वारा बगदाद सम्मेलन में ओपेक का गठन हुआ था।
  • ओपेक के सदस्यों और रूस सहित गैर-ओपेक तेल उत्पादकों के एक समूह ने 2016 में दुनिया भर में ऊर्जा की कीमतों को प्रभावित करने के लिए अपने सहयोग को और मजबूत किया। इस सहयोग को ओपेक+ (प्लस) के नाम से जाना गया।

वर्तमान परिदृश्य:

  • रूस-यूक्रेन संघर्ष ने भू-राजनीति और वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को बड़े पैमाने पर प्रभावित किया है।
  • यूक्रेन पर आक्रमण के बाद, ओपेक देश जो प्रमुख तेल उत्पादक हैं, चर्चा में हैं क्योंकि आपूर्ति की अपर्याप्तता और बढ़ती मांग के साथ वैश्विक तेल की कीमत प्रति बैरल 120 डॉलर से अधिक हो गई है।
  • वैश्विक तेल कीमतों में वृद्धि के बने रहने का अनुमान है क्योंकि यूरोपीय संघ ने रूस से तेल आयात में 90% की कटौती करने और यूरोपीय बीमा कंपनियों को रूसी तेल ले जाने वाले टैंकरों को कवर बेचने से रोकने का फैसला किया है।
  • यह ओपेक के सदस्यों पर एक अतिरिक्त बोझ होगा क्योंकि गैर-रूसी तेल उत्पादक देश रूसी आपूर्ति की भरपाई करने में और एक उचित समय सीमा के भीतर यूरोपीय उपभोक्ताओं की मांग को पूरा करनें में सक्षम नहीं हो सकते हैं।
  • यह उच्च वैश्विक तेल की कीमतों की अवधि का विस्तार करेगा।
  • इसके निहितार्थ बड़े पैमाने पर भारत की तेल की मांग को प्रभावित करेंगे क्योंकि हम तेल आयात पर निर्भर हैं।
  • ओपेक बढ़ती मांग के साथ तेल की वैश्विक आपूर्ति को सीमित करने के लिए एक कार्टेल के रूप में काम करता है, जिसके परिणामस्वरूप कीमतों में वृद्धि होगी।
  • अर्थशास्त्रियों के अनुसार कार्टेल के कामकाज में व्यवधान तेल उत्पादकों के बीच सहयोग को प्रभावित करेगा और आपूर्ति की कोई सीमा नहीं होगी, जिससे विश्व में तेल का कुल उत्पादन अधिक होगा।
  • इसका अर्थ यह है कि आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए और अधिक तेल उपलब्ध होगा जिसके परिणामस्वरूप वैश्विक अर्थव्यवस्था में अधिक वस्तुओं और सेवाओं का उत्पादन होगा, जिससे उच्च जीवन स्तर सुनिश्चित होगा।
  • यही कारण था कि अमेरिका और ब्रिटेन जैसे देश वैश्विक अर्थव्यवस्था को मंदी की ओर जाने से रोकने हेतु ओपेक देशों पर उत्पादन बढ़ाने के लिए राजनीतिक दबाव बना रहे हैं। इसके अलावा, अमेरिका ने ओपेक देशों पर अपनी निर्भरता कम करने के लिए अपनी घरेलू उत्पादन क्षमता को बढ़ाने का भी प्रयास किया है।

भावी कदम:

  • भारत जैसे देशों में ऊर्जा क्षेत्र में उनके घरेलू उत्पादन को बढ़ावा देने और ओपेक देशों पर निर्भरता को कम करने के लिए संरचनात्मक सुधार किए जाने चाहिए।
  • रूस पर लगाए गए प्रतिबंध भारत के लिए अत्यधिक रियायती दर पर तेल खरीदने का एक अवसर है।
  • कुछ अर्थशास्त्रियों के अनुसार यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि वैश्विक तेल बाजार एक प्रतिस्पर्धी बाजार हो जहां किसी भी उत्पादक के पास कीमतों को प्रभावित करने की बाजार की शक्ति नहीं होगी।
  • ओपेक का भविष्य वैश्विक अर्थव्यवस्था में ऊर्जा के स्रोत के रूप में तेल के उपयोग पर निर्भर है। ऐसा माना जाता है कि ओपेक की भूमिका को सशक्त करते हुए तेल इस सदी में ऊर्जा का प्रमुख स्रोत बना रहेगा।
  • दूसरी ओर, यह भी माना जाता है कि जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता में कमी को अपनाते हुए कार्बन फुट प्रिंट को कम करने हेतु विश्व में हरित ऊर्जा के उपयोग पर दिए जा रहे ध्यान से ओपेक का प्रभाव फीका पड़ जाएगा।

सारांश: विश्व में उच्च कीमतों के साथ वैश्विक तेल आपूर्ति में भारी कमी है जो रूस-यूक्रेन संघर्ष का वृहत परिणाम है। इस तथ्य के बावजूद कि विश्व स्वच्छ और हरित ऊर्जा की ओर बढ़ रहा है, ऊर्जा बाजार को स्थिर करने में प्रमुख तेल उत्पादक कार्टेल के रूप में ओपेक की भूमिका महत्वपूर्ण रहेगी।

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 3 से संबंधित

अर्थव्यवस्था

FPI भारतीय शेयरों को क्यों डंप कर रहे हैं?

विषय: संसाधनों को जुटाने, प्रगति, विकास

प्रारंभिक परीक्षा: FPI

मुख्य परीक्षा: भारत के आर्थिक सुधार पर FPI द्वारा बिकवाली का प्रभाव।

प्रसंग: विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों की ओर से लॉकडाउन के बाद से भारतीय शेयर बाजार में काफी अधिक बिकवाली का मौजूदा रुझान देखा गया है। इससे बेंचमार्क सूचकांकों में उल्लेखनीय गिरावट आई है, जिससे कंपनियों का बाजार पूंजीकरण कम हुआ है।

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों के बारे में जानकारी:

  • ये वे निवेशक हैं जो अपने देश के बाहर के बाजारों में निवेश करते हैं।
  • इस तरह के निवेश इक्विटी, बांड और म्यूचुअल फंड के रूप में होते हैं।
  • ये FPI सक्रिय शेयरधारक नहीं होते हैं और इनका उन कंपनियों पर नियंत्रण नहीं होता है जिनका शेयर उनके पास होता है।
  • उनके निवेश की निष्क्रिय प्रकृति उन्हें स्वेच्छा से और आसानी से स्टॉक में प्रवेश करने या बाहर निकलने में सक्षम बनाती है।

FPI की ओर से बिकवाली का असर:

  • चूंकि FPI अपनी भारतीय शेयर-पूँजी बेच रहे हैं और फंड को अपने घरेलू बाजारों में वापस स्थानांतरित कर रहे हैं, इससे स्थानीय मुद्रा काफी प्रभावित होती है।
  • ऐसा इसलिए है क्योंकि वे अपने घरेलू बाजार की मुद्रा के बदले रुपये बेचते हैं।
  • नतीजतन, बाजार में रुपये की आपूर्ति बढ़ जाती है, जिससे इसकी कीमत कम हो जाती है।
  • यह भारत के लिए एक बड़े झटके के रूप में सामने आता है क्योंकि यह अभी भी महामारी के झटकों से उबर रहा है।
  • एक कमजोर रुपया वस्तु की एक ही इकाई के आयात के लिए धन के बहिर्वाह में वृद्धि करेगा।
  • यह अर्थव्यवस्था पर एक हानिकारक प्रभाव होगा, विशेष रूप से कच्चे तेल की आयात कीमतों के मामले में जो रूस-यूक्रेन संघर्ष के कारण पहले से ही बढ़ा हुआ है।

भावी कदम:

  • भारतीय बाजार से FPI द्वारा धन के प्रत्यावर्तन के लिए जिम्मेदार कारकों पर आरबीआई को हस्तक्षेप और विचार करना होगा और तदनुसार अपनी नीति का पुनर्गठन करना होगा।
  • आर्थिक गतिविधियों को वापस सामान्य स्थिति में लाने की प्रक्रिया एक समय लेने वाली प्रक्रिया होगी। सरकार, उद्योगों और अन्य हितधारकों को विदेशी निवेशकों के साथ नियम और शर्तों पर बातचीत करनी चाहिए तथा स्थिति और खराब होने से पहले विश्वास कारक को मजबूत किया जाना चाहिए।
  • मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने की केंद्रीय बैंक (RBI) की सख्त नीति ने भी भारतीय बाजार में कारोबार जारी रखने के लिए विदेशी निवेशकों के विश्वास को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस मुद्दे के निराकरण की जरूरत है।
  • अर्थशास्त्रियों का सुझाव है कि निवेशकों को सलाह दी जाए कि वे आकलन करें और फिर उन शेयरों में निवेश करें जिनमें लचीला क्षेत्र शामिल हैं।
  • FPI द्वारा उच्च बिकवाली के प्रभाव को कम करने के लिए कुछ उपाय किए जा सकते हैं। इन उपायों में निम्नलिखित शामिल हैं:
  • सकारात्मक ऋण वृद्धि
  • उद्योगों द्वारा सावधानीपूर्वक निवेश योजनाएं
  • सरकार द्वारा पूंजीगत व्यय पर पर्याप्त बजट आवंटन

सारांश: FPI द्वारा उच्च बिकवाली का अर्थव्यवस्था पर वृहत प्रभाव पड़ने का अनुमान है और इससे महामारी के बाद की अवधि में आर्थिक सुधार की अवधि बढ़ सकती है। हालांकि, पुनर्गठित नीति के साथ कुछ उपायों को लागू करना सामान्य निवेश चक्र को पुनर्जीवित करने के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य कर सकता है।

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 3 से संबंधित

अर्थव्यवस्था

क्या मुद्रास्फीतिजनित मंदी (Stagflation)के डर से बाजार प्रभावित हो रहे हैं?

विषय: शिक्षा से संबंधित मुद्दे

प्रारंभिक परीक्षा: मुद्रास्फीतिजनित मंदी (Stagflation), मुद्रास्फीति

मुख्य परीक्षा: भारतीय अर्थव्यवस्था के संदर्भ में यूक्रेन-रूस युद्ध के संभावित परिणाम।

प्रसंग: रूस-यूक्रेन संघर्ष के परिणामस्वरूप विश्व के विभिन्न हिस्सों में मुद्रास्फीति में वृद्धि हुई है, जिससे वैश्विक अर्थव्यवस्था की प्रगति बाधित हुई है।

मुद्रास्फीतिजनित मंदी:

  • यह ऐसी आर्थिक स्थितियों को संदर्भित करता है जिसमें आर्थिक उत्पादन स्थिर और उच्च मूल्य मुद्रास्फीति होती हैं।
  • मुद्रास्फीतिजनित मंदी का विचार अमेरिका में तीव्र आर्थिक संकट के दौरान अस्तित्व में आया जिसमें मंदी और तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण उच्च मूल्य मुद्रास्फीति शामिल थी।
  • यह समग्र आर्थिक स्वास्थ्य का आकलन करने के लिए अर्थशास्त्रियों द्वारा उपयोग किए जाने वाले प्रमुख मैक्रोइकॉनॉमिक मापक में से एक के रूप में कार्य करता है।
  • व्यावहारिक रूप से यह देखा गया है कि उच्च आर्थिक विकास हमेशा तीव्र मुद्रास्फीति को बढ़ावा देता है। यही कारण है कि केंद्रीय बैंक लक्षित स्तर से अधिक मूल्य वृद्धि को नियंत्रित करने के लिए एक विशिष्ट आदेश जारी करते हैं।
  • किसी अर्थव्यवस्था के संपूर्ण प्रदर्शन के लिए आर्थिक उत्पादन (सकल घरेलू उत्पाद के संदर्भ में व्यक्त), रोजगार स्तर और मुद्रास्फीति दर का उचित विनियमन आवश्यक हो जाता है।
  • मुद्रास्फीतिजनित मंदी तब देखी जाती है जब अर्थव्यवस्था की समग्र गति काफी हद तक धीमी हो जाती है।
  • इसके परिणामस्वरूप उच्च बेरोजगारी, आर्थिक गतिविधियों में कमी, व्यवसायों का बंद होना आदि होता है।
  • भारत में वर्तमान स्थिति को देखते हुए, महामारी के दौरान आर्थिक गतिविधियों में मंदी और रूस-यूक्रेन संघर्ष (जिससे वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला बाधित हुई है) के कारण मुद्रास्फीतिजनित मंदी से संबंधित चिंता जाहिर की गई है।

निष्कर्ष:

किसी भी हस्तक्षेप से पहले, मौजूदा भू-राजनीतिक तनावों से उत्पन्न मुद्रास्फीति वृद्धि को कम करना आवश्यक हो जाता है। वैश्विक अर्थव्यवस्था को सामान्य स्थिति में लाने के लिए मूल्य स्थिरता एक प्रमुख आवश्यकता है।

सारांश: नीति निर्माताओं, विशेष रूप से केंद्रीय बैंकों के लिए चुनौती यह है कि उत्पादन वृद्धि के लिए अनुकूलतम परिस्थितियों को सुनिश्चित किया जाए। यह व्यवसायों के लिए अधिक रोजगार सृजित करने, बेरोजगारी दर को कम करने का मार्ग प्रशस्त करेगा और इसके परिणामस्वरूप स्थिर कीमतों के साथ एक पारिस्थितिकी तंत्र निर्मित होगा।

प्रीलिम्स तथ्य:

  1. तारों का तापमान

विषय:विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

प्रारंभिक परीक्षा: हिमवारी-8

प्रसंग: एक जापानी मौसम उपग्रह द्वारा बेतेल्यूज़ नामक लाल विशालकाय तारे के “ग्रेट डीमिंग” का अवलोकन किया गया है।

विश्लेषण :

  • हिमावरी – 8 एक मौसम उपग्रह है जिसने धूल के बादल और तारे के तापमान में 140 ℃ की गिरावट देखी है।
  • बेतेल्यूज़ तारा ओरियन तारामंडल में दूसरा सबसे चमकीला तारा है और आकाश में 10 वां सबसे चमकीला तारा है।
  • “ग्रेट डीमिंग” एक तारे की चमक में अत्यधिक कमी को दर्शाता है।
  • आमतौर पर, किसी तारे के ग्रेट डीमिंग को एक संकेत के रूप में माना जाता है कि तारा नष्ट होने वाला है।
  • इससे तारे में होने वाली खगोलीय घटनाओं के बारे में महत्वपूर्ण साक्ष्य मिले हैं।
  • इस खोज से उस तरीके को समझने में आसानी हुई है जिसमें एक लाल विशालकाय तारा अपना द्रव्यमान खो देता है और अंततः एक सुपरनोवा के रूप में विस्फोट करता है।

हिमावरी 8 के बारे में

  • यह एक जापानी मौसम उपग्रह है और इसे 8वां भूस्थिर मौसम उपग्रह माना जाता है।
  • यह जापानी मौसम विज्ञान एजेंसी द्वारा संचालित है।
  • मित्सुबिशी इलेक्ट्रिक ने बोइंग के सहयोग से इस अंतरिक्ष यान का निर्माण किया था।
  • इसके विभिन्न कार्य हैं जैसे:
    • मौसम की भविष्यवाणी
    • जापान, पूर्वी एशिया और पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र के लिए मौसम संबंधी रिपोर्ट
    • जहाजों की सुरक्षा सुनिश्चित करना
    • पृथ्वी के पर्यावरण का अवलोकन
    • विभिन्न खगोलीय घटनाओं का अध्ययन
  • इस उपग्रह द्वारा रिकॉर्ड किया गया डेटा अन्य देशों के मौसम विज्ञान एजेंसियों के साथ स्वतंत्र रूप से साझा किया जाता है।

UPSC प्रारंभिक परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

प्रश्न 1. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

  1. हमारे सौर मंडल के सभी ग्रहों में यूरेनस का घनत्व सबसे कम है।
  2. नेपच्यून को तिरछा (lopsided) ग्रह माना जाता है।
  3. यूरेनस और नेपच्यून को अक्सर जुड़वां ग्रह कहा जाता है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 2 और 3
  3. केवल 3
  4. 1, 2 और 3

उत्तर: c

व्याख्या:

  • सभी ग्रहों में शनि का घनत्व सबसे कम है क्योंकि यह ज्यादातर गैसों से निर्मित है और इसे गैस से निर्मित दानव तारा भी कहा जाता है। अतः विकल्प 1 गलत है।
  • यूरेनस ग्रह तिरछा (lopsided) है। यह एकमात्र ऐसा ग्रह है जो अपने पार्श्व पर घूमता है। अतः विकल्प 2 गलत है।
  • यूरेनस और नेपच्यून को द्रव्यमान, आकार, संरचना और घूर्णन के संदर्भ में समानता के कारण, जुड़वां ग्रह के रूप में जाना जाता है।
  • यह विकल्प ‘c’ सही उत्तर है।

प्रश्न 2. मुन्नेरु नदी निम्नलिखित में से किस नदी की सहायक नदी है?

  1. कावेरी
  2. गोदावरी
  3. कृष्णा
  4. नर्मदा

उत्तर: c

व्याख्या:

  • मुन्नेरु नदी कृष्णा नदी की बायीं ओर की सहायक नदी है।
  • यह तेलंगाना के वारंगल जिले से निकलती है तथा खम्मम और कृष्णा जिलों में बहती है।
  • इसका नाम ऋषि मुद्गल के नाम पर रखा गया है, जिनके बारे में माना जाता है कि उन्होंने अपनी आध्यात्मिक शक्तियों के माध्यम से इस नदी को उत्पन्न किया था।
  • अतः विकल्प ‘c’ सही उत्तर है।

प्रश्न 3. अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ (ITU) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं?

  1. यह संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है।
  2. अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ का मुख्यालय जिनेवा, स्विट्जरलैंड में है।
  3. वैश्विक साइबर सुरक्षा सूचकांक (GCI), अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ की एक पहल है।

विकल्प:

  1. केवल 1 और 3
  2. केवल 2
  3. 1, 2 और 3
  4. इनमें से कोई भी नहीं

उत्तर: c

व्याख्या:

  • अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ, सूचना और संचार प्रौद्योगिकियों के लिए संयुक्त राष्ट्र की एक विशेष एजेंसी है, इसकी स्थापना 1865 में की गई थी। अतः विकल्प 1 सही है।
  • इसका मुख्यालय जिनेवा, स्विट्जरलैंड में है। इसके 193 सदस्य देश हैं साथ ही इसके 6 क्षेत्रीय कार्यालय यूरोप, अफ्रीका, अमेरिका, एशिया-प्रशांत, अरब राज्यों और राष्ट्रमंडल स्वतंत्र देशों में हैं । अतः विकल्प 2 सही है।
  • वैश्विक साइबर सुरक्षा सूचकांक (GCI), इस संघ की एक पहल है जो लोगों के सुरक्षित संचार के अधिकारों की रक्षा और उसका समर्थन करती है।
  • चूंकि सभी कथन सही हैं, अतः विकल्प ‘c’ सही उत्तर है।

प्रश्न 4. ‘पर्यावरण के लिए जीवन शैली (LiFE) अभियान’ के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

  1. ‘पर्यावरण के लिए जीवन शैली (LiFE) अभियान का विचार प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा ग्लासगो में पार्टियों के 26 वें संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (COP26) के दौरान प्रस्तुत किया गया था।
  2. यह विचार पर्यावरण के प्रति जागरूक जीवन शैली को बढ़ावा देता है, जो नासमझ और विनाशकारी उपभोग” के बजाय “सोच-समझकर और विचार आधारित उपयोग’ पर केंद्रित है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 2
  3. दोनों
  4. इनमें से कोई भी नहीं

उत्तर: c

व्याख्या:

  • प्रधानमंत्री ने वैश्विक पहल के रूप में ‘पर्यावरण के लिए जीवन शैली (LiFE) अभियान को शुरू किया है जिसका उद्देश्य पर्यावरण की रक्षा के लिए सामूहिक प्रयास है। यह विचार ग्लासगो में COP26 के दौरान प्रतिपादित किया गया था। अतः विकल्प 1 सही है।
  • LiFE अभियान का विचार बिना गंभीर विचार किए और विनाशकारी उपभोग” के बजाय “सोच-समझकर और विचार आधारित उपयोग’ पर केंद्रित है। अतः विकल्प 2 सही है।
  • अतः विकल्प c सही उत्तर है।

प्रश्न 5.निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

  1. इल्तुतमिश के शासनकाल में, चंगेज खान भगोड़े ख्वारिज्म राजकुमार की खोज में सिंधु नदी तक पहुंचा था।
  2. मुहम्मद-बिन-तुगलक के शासनकाल में, तैमूर ने मुल्तान पर अधिकार किया था और सिंधु नदी पार की थी।
  3. विजयनगर साम्राज्य के देव राय द्वितीय के शासनकाल में, वास्को डी गामा केरल के तट पर पहुंचा था।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 1 और 2
  3. केवल 3
  4. केवल 2 और 3

उत्तर: a

व्याख्या:

  • यह सत्य है कि इल्तुतमिश के शासनकाल के दौरान 1221 में सिंधु की लड़ाई में खरेजमियन साम्राज्य को हराकर चंगेज खान ने भारत पर आक्रमण किया था।
  • तैमूर ने 1398 में दिल्ली सल्तनत पर हमला करके उत्तरी भारत पर आक्रमण किया जो तुगलक वंश के शासन के अधीन था। सिंधु नदी को पार करने के बाद ही तैमूर ने मुल्तान पर कब्जा कर लिया था। अतः विकल्प 2 गलत है।
  • 1498 में वास्को डी गामा के कालीकट के तट पर पहुंचने से बहुत पहले विजयनगर साम्राज्य के देव राय द्वितीय का शासन समाप्त हो गया था। अतः विकल्प 3 गलत है।
  • अतः विकल्प ‘a’ सही उत्तर है।

UPSC मुख्य परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न :

  1. विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों द्वारा बिकवाली के क्या कारण हैं? क्या इससे वर्तमान आर्थिक रिकवरी प्रभावित होगी? (10 अंक, 150 शब्द)
  2. मंकीपॉक्स की संभावित उत्पत्ति, लक्षण, संचरण के तरीके और उपचार पर चर्चा कीजिए। (10 अंक, 150 शब्द)

Leave a Comment

Your Mobile number and Email id will not be published. Required fields are marked *

*

*