UPSC परीक्षा कम्प्रेहैन्सिव न्यूज़ एनालिसिस - 24th Apr, 2022 UPSC CNA in Hindi

24 अप्रैल 2022 : समाचार विश्लेषण

A.सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 1 से संबंधित:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

B.सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित:

अंतर्राष्ट्रीय संबंध:

  1. विश्व व्यापार संगठन भारतीय अनाज निर्यात पर प्रतिबंधों में ढील दे सकता है
  2. अर्जेंटीना भारत में फ़ॉकलैंड मुद्दे को पुनर्जीवित करेगा

C.सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 3 से संबंधित:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

D.सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 4 से संबंधित:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

E.सम्पादकीय:

आधारभूत अवसंरचना

  1. भारत कितनी जल्दी कोयले पर निर्भरता से मुक्त हो सकता है ?

अंतर्राष्ट्रीय संबंध:

  1. चीन सुरक्षा समझौता

F. प्रीलिम्स तथ्य:

  1. डोभाल पहले अंतरराष्ट्रीय खुफिया प्रमुखों की दिल्ली बैठक की अध्यक्षता करेंगे
  2. रूस शरद ऋतु तक सरमत मिसाइलों को तैनात करेगा
  3. ब्लू स्ट्रैगलर तारे मानक सिद्धांतों से अलग क्यों है?

G.महत्वपूर्ण तथ्य:

आज इससे संबंधित कुछ नहीं है।

H. UPSC प्रारंभिक परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

I. UPSC मुख्य परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न :

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित:

विश्व व्यापार संगठन भारतीय अनाज निर्यात पर प्रतिबंधों में ढील दे सकता है

अंतर्राष्ट्रीय संबंध:

विषय: द्विपक्षीय, क्षेत्रीय व वैश्विक समूह और भारत से जुड़े या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले समझौते।

प्रारंभिक परीक्षा: विश्व व्यापार संगठन (WTO)

मुख्य परीक्षा: भारतीय निर्यात पर विश्व व्यापार संगठन के नियमों का प्रभाव

प्रसंग:

विश्व व्यापार संगठन (WTO) के निदेशक उन मुद्दों को हल करने के लिए ‘सकारात्मक’ रूख दिखा रहे हैं जिससे भारत को अनाज की कमी का सामना कर रहे देशों को अनाज निर्यात करने में बाधा उत्पन्न हो रही है।

मुद्दा क्या है?

  • यूक्रेन पर रूस के आक्रमण के बाद से, वैश्विक स्तर पर गेहूं की कीमतें बढ़ गई हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका ने भारत से वर्तमान खाद्यान्न संकट में सहायता करने के लिए कहा है।
  • वैश्विक भंडार में एक वृहद कमी के कारण, भारत के गेहूं निर्यात में वृद्धि की आशा है क्योंकि रूस और यूक्रेन से आपूर्ति कम हो रही है।
  • भारत सरकार राजनयिक मिशनों को अन्य देशों को जाने वाली (आउटबाउंड) शिपमेंट में सहायता करने का अनुरोध करके अंतराल को ख़त्म करने का प्रयास कर रही है।

भारत के अनाज निर्यात से जुड़ी चुनौतियाँ और मुद्दे:

  • न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP):
    • विश्व व्यापार संगठन (WTO) के अन्य सदस्यों ने घरेलू समर्थन के उच्च स्तर को लेकर भारत के MSP की आलोचना की है।
    • एक ऐसा देश जिसने न्यूनतम समर्थन मूल्य के आधार पर खाद्यान्न की खरीद की हो, उसके खाद्यान्न निर्यात को नियंत्रित करने वाले विश्व व्यापार संगठन के नियम उन चुनौतियों में से एक थे।
  • घरेलू समर्थन और खरीद:
    • लगातार दूसरे वर्ष, भारत ने विश्व व्यापार संगठन (WTO) को सूचित किया है कि उसका घरेलू चावल समर्थन उसकी WTO प्रतिबद्धताओं से अधिक हो गया है।
    • भारत ने विश्व व्यापार संगठन (WTO) को यह भी सूचित किया कि उसने दूसरी बार खाद्य सुरक्षा के लिए सार्वजनिक भंडारण पर विश्व व्यापार संगठन के मंत्रिस्तरीय निर्णय का उपयोग किया है।
    • सरकार द्वारा उपभोक्ता सहायता कार्यक्रम के लिए किसानों से चावल और गेहूं की खरीद के परिणामस्वरूप स्टॉक का स्तर बहुत अधिक हो गया है।
  • वैश्विक प्रतिस्पर्धात्मकता: भारतीय गेहूं विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी नहीं है। घरेलू कीमतें सरकार द्वारा खरीद नीति के माध्यम से निर्धारित की जाती हैं जबकि वैश्विक कीमतें आमतौर पर कम होती हैं।
  • संरचनात्मक चुनौतियां:
    • शिपिंग लागत में वृद्धि
    • शिपिंग मार्गों में परिवर्तन
    • वैश्विक स्तर पर कंटेनरों की कमी
  • कृषि सब्सिडी:
    • विकसित और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के बीच कृषि सब्सिडी को लेकर भी गतिरोध जारी है।
    • 2013 में बाली मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में वार्ता के बाद “पीस” क्लॉज़, जो सार्वजनिक खाद्यान्न भंडार पर 10% सब्सिडी की अनुमति देता है, को समाप्त कर दिया गया था।
    • भारतीय किसानों की सहायता के लिए सरकारी खरीद के आधार पर सार्वजनिक भंडारण हेतु स्थायी पीस क्लॉज़ स्थापित करने के मुद्दे पर अभी भी चर्चा चल रही है।

भारत के लिए अवसर:

  • यूक्रेन संघर्ष ने भारत को कमोडिटी की कीमतों में वैश्विक वृद्धि से निपटने जैसी चुनौतियां और अवसर दोनों प्रदान किया है।
  • खाद्यान्न निर्यात, जैसे कि गेहूं, उन संभावनाओं में से है, वैसे ही विनिर्मित वस्तुओं को उन गंतव्यों में निर्यात करने की संभावना थी जहाँ आपूर्ति विश्वसनीय नहीं रह गई थी।
  • भारत ने 2022 में रिकॉर्ड 15 मिलियन टन गेहूं निर्यात करने के लक्ष्य के साथ गेहूं के निर्यात हेतु 20 से अधिक देशों से संपर्क किया है।
  • 2022 में, भारत में 111 मिलियन टन से अधिक चावल का उत्पादन होने की उम्मीद है, जिसके परिणामस्वरूप अधिशेष उत्पादन होगा।

सारांश:

  • यूक्रेन युद्ध के बाद खाद्यान्न की वैश्विक कमी के बीच, भारत जैसे देश जो कृषि उत्पादों का निर्यात करके खाद्यान्न की कमी को दूर करने की क्षमता रखते हैं, को विश्व व्यापार संगठन से कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। भारत को विश्व को एक प्रमुख आपूर्तिकर्ता बनने के लिए खाद्यान्न के निर्यात के अवसरों की पहचान करनी चाहिए।

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित:

अर्जेंटीना भारत में फ़ॉकलैंड मुद्दे को पुनर्जीवित करेगा

अंतर्राष्ट्रीय संबंध:

विषय: भारत के हितों पर विकसित और विकासशील देशों की नीतियों और राजनीति का प्रभाव

मुख्य परीक्षा: फ़ॉकलैंड विवाद और भारत की भूमिका

संदर्भ: अर्जेंटीना सरकार भारत में एक अभियान शुरू करेगी।

विवरण:

  • अर्जेंटीना द्वारा भारत में माल्विनास द्वीप समूह के प्रश्न पर संवाद आयोग की शुरुआत की जाएगी।
  • यह आयोग यूनाइटेड किंगडम में फ़ॉकलैंड द्वीप समूह के रूप में जाने जाने वाले इस्लास माल्विनास पर क्षेत्रीय विवाद को निपटाने के लिए यूनाइटेड किंगडम के साथ बातचीत की मांग करेगा।

फ़ॉकलैंड आइलैंड:

  • फ़ॉकलैंड द्वीप समूह, जिसे माल्विनास द्वीप समूह या स्पैनिश इस्लास माल्विनास के नाम से भी जाना जाता है, दक्षिण अटलांटिक महासागर में एक स्वशासी ब्रिटिश विदेशी क्षेत्र है। यह दक्षिण अमेरिका के सबसे दक्षिणी बिंदु से लगभग 300 मील (480 किमी) उत्तर पूर्व में है, और मैगलन जलडमरूमध्य के पूर्व में समान दूरी पर है।

सारांश:

  • एक उत्तर-औपनिवेशिक राज्य के रूप में, भारत कई वर्षों से बातचीत के माध्यम से फ़ॉकलैंड विवाद के समाधान का समर्थन करता रहा है। भारत ने वैश्विक दक्षिण में उपनिवेशवाद को समाप्त करने में अपनी ऐतिहासिक भूमिका के कारण लगातार वार्ता का समर्थन किया है।

संपादकीय-द हिन्दू

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 3 से संबंधित

आधारभूत अवसंरचना

भारत कितनी जल्दी कोयले पर निर्भरता से मुक्त हो सकता है ?

विषय: ऊर्जा

मुख्य परीक्षा: भारत में कोयले के महत्व का विश्लेषण, कोयले के भंडार में गिरावट के कारण और पारंपरिक स्रोतों को प्रतिस्थापित करने की अक्षय ऊर्जा स्रोतों की क्षमता।

प्रसंग

कई राज्यों में कोयले के भंडार में कमी और इसके परिणामस्वरूप बिजली की कटौती ने पारंपरिक संसाधनों को प्रतिस्थापित करने की भारत की अक्षय ऊर्जा क्षमता पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

पृष्ठभूमि

  • इससे पहले, तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से राज्य में बिजली संयंत्रों को कोयले की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने का आग्रह किया।
  • महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री ने यह भी सुझाव दिया कि सरकार बिजली की कमी का प्रबंधन करने के लिए कोयले का आयात करना चाह रही है।
  • गुजरात, जो बिजली की खपत करने वाले शीर्ष राज्यों में से एक है, भी आयात के तरीकों की तलाश कर रहा है।

भारत में कोयले का महत्व

  • कोयला भारत में पाया जाने वाला सबसे महत्वपूर्ण और प्रचुर मात्रा में उपलब्ध जीवाश्म ईंधन है।
  • जलविद्युत और परमाणु संयंत्रों की तुलना में कोयला आधारित संयंत्रों की पूंजीगत लागत कम होती है।
  • देश की औद्योगिक विरासत स्वदेशी कोयले पर निर्मित है।
  • कोयला देश की ऊर्जा जरूरतों का लगभग 55% हिस्सा है।
  • इंटरनेशनल एनर्जी एजेंसी की इंडिया एनर्जी आउटलुक 2021 की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में ऊर्जा का उपयोग 2000 के बाद से दोगुना हो गया है और लगभग 80% मांग अभी भी कोयला, तेल और ठोस बायोमास द्वारा पूरी की जा रही है।
  • बढ़ती आबादी और बढ़ती अर्थव्यवस्था के कारण पिछले 40 वर्षों में भारत में वाणिज्यिक प्राथमिक ऊर्जा खपत में लगभग 700% की वृद्धि हुई है। देश में अन्य ऊर्जा संसाधनों की सीमित रिज़र्व क्षमता को ध्यान में रखते हुए, कोयला भारत के ऊर्जा उत्पादन का शीर्ष स्रोत बना रहेगा।

कोयला स्टॉक में गिरावट

  • भारत में 100 से अधिक ताप विद्युत संयंत्रों में कोयले का स्टॉक महत्वपूर्ण निशान (आवश्यक स्टॉक के 25% से कम) से नीचे गिर गया है।
  • इसके अलावा, लगभग 50 ताप विद्युत संयंत्रों में कोयले का स्टॉक 10% से कम है।
  • कोयला और खान मंत्री के अनुसार, कोल इंडिया, सिंगरेनी कोलियरी और कोल वाशरीज के विभिन्न स्रोतों में लगभग 72.5 मिलियन टन (MT) कोयला उपलब्ध है, तथा लगभग 22.01 मीट्रिक टन कोयला थर्मल पावर प्लांट के पास उपलब्ध है।
  • मंत्री ने आगे कहा कि देश में पर्याप्त मात्रा में कोयला उपलब्ध है, जो एक महीने से अधिक समय तक चल सकता है और रिकॉर्ड उत्पादन के साथ कोयले का भंडार प्रतिदिन भरा जा रहा है।

भारत में कोयले के स्टॉक में गिरावट के कारण

  • कोविड महामारी के कारण उत्पन्न व्यवधानों ने कोयले के स्टॉक में वृद्धि को रोक दिया है।
  • कोविड प्रतिबंधों के कारण खनन कार्य रोक दिया गया था।
  • प्रतिबंध हटने के बाद और जब खनन कार्य धीरे-धीरे शुरू किया गया, तो मानसून की शुरुआत ने खनन गतिविधियों को बाधित कर दिया और स्टॉक के आने में और देरी कर दी।
  • बिजली की घरेलू मांग में वृद्धि और गर्मी के आगमन के साथ-साथ आर्थिक गतिविधियों में अचानक वृद्धि के कारण मांग-आपूर्ति में असंतुलन उत्पन्न हो गया है।

भारत की अक्षय ऊर्जा क्षमताएं

  • कहा जाता है कि केंद्र सरकार ने कई अक्षय ऊर्जा-आधारित योजनाओं और पहलों को लागू करने पर मार्च 2021 तक लगभग 3,793 करोड़ रुपये खर्च किए हैं।
  • वर्तमान में, भारत में लगभग 152.90 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता स्थापित की गई है,
    • सौर ऊर्जा का योगदान 50.78 गीगावॉट से अधिक
    • पवन ऊर्जा – 40.13 गीगावॉट
    • जैव-शक्ति – 10.63
    • बड़ी जल विद्युत शक्ति – 46.52 GW
    • लघु जल विद्युत – 4.84 गीगावॉट
  • नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय का लक्ष्य 2030 तक 500 GW गैर-जीवाश्म ईंधन आधारित बिजली स्थापित करना है जो भारत द्वारा COP26 में की गई प्रतिबद्धताओं के अनुरूप है।
  • 2020-21 में, केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (CEA) के अनुसार, कुल 1,381.83 बिलियन यूनिट (bu) बिजली उत्पन्न हुई, जिसमें से अक्षय ऊर्जा स्रोतों की हिस्सेदारी 297.55 बिलियन यूनिट (bu) थी जो कुल उत्पादन का लगभग 21.5% थी।
  • इष्टतम उत्पादन क्षमता पर केंद्रीय विद्युत प्राधिकरण (CEA) की रिपोर्ट के अनुसार सकल बिजली उत्पादन में अक्षय ऊर्जा की हिस्सेदारी 2029-30 तक लगभग 40% होगी।

अक्षय ऊर्जा क्षेत्र के लिए चुनौतियां

  • किसी संयंत्र की क्षमता आवश्यक रूप से उस वास्तविक शक्ति में परिवर्तित नहीं होती है जो बाहरी कारकों जैसे गर्मी या पारेषण हानियों के कारण होने वाली हानियों के कारण उत्पन्न होती है।
  • अक्षय स्रोत जैसे सौर एवं पवन “परिवर्तनीय संसाधन” हैं, इसकी ‘परिवर्तनशीलता’ चरम मांग की अवधि के दौरान देखने को मिलेगी।
    • उदाहरण: सौर ऊर्जा मुख्य रूप से गर्मियों में दिन के समय उपलब्ध होती है। हालांकि, घरेलू मांग शाम के समय सबसे अधिक होती है, जहां सूर्य के प्रकाश की ऊर्जा की मांग और आपूर्ति में संतुलन नहीं होता है।
  • इन संसाधनों में “मौसमी विविधताएं” भी देखी जाती हैं।
    • उदाहरण: मानसून में सौर ऊर्जा प्रचुर मात्रा में उपलब्ध नहीं होती जबकि पवन ऊर्जा प्रचुर मात्रा में होती है।
  • इन स्रोतों के संबंध में एक और चुनौती “स्थानिक परिवर्तनशीलता” है।
    • उदाहरण: तटीय क्षेत्रों के निकट के स्थानों में हवा अधिक होती है और इसलिए, पवन ऊर्जा उत्पन्न करने की क्षमता अधिक होती है।
    • जबकि सूखे वाले स्थान पर अधिक धूप देखने को मिलता है

पारेषण और भंडारण सुविधाओं का महत्व

  • पारेषण और भंडारण सुविधाएं “परिवर्तनशीलता” चुनौतियों का समाधान करने की कुंजी हैं।
  • ये सुविधाएं भारत में उपभोक्ताओं के बीच ‘डक कर्व’ बिजली मांग का समाधान करने में मदद करती हैं।

डक कर्व

  • इस कर्व का नाम इसलिए यह रखा गया है क्योंकि यह एक बत्तख जैसा दिखता है।
  • डक कर्व पूरे दिन ऊर्जा की मांग और उपलब्धता के बीच के अंतर को दर्शाता है।

चित्र स्रोत: INSIDEEVs

  • पारेषण और स्टोरेज सुविधाएं बिजली की मांग और आपूर्ति को संतुलित करने में मदद करती हैं।
  • इन सुविधाओं के माध्यम से देश में मांग के आधार पर आयात और निर्यात को संतुलित करके एक पूरक मॉडल स्थापित किया जा सकता है।

सारांश: ऊर्जा उत्पादन के लिए अक्षय संसाधनों के उपयोग को बढ़ावा देने के प्रयासों के बावजूद, भारत अभी भी स्थिरता और ऊर्जा सुरक्षा के लिए कोयला आधारित उत्पादन पर बहुत अधिक निर्भर है। इसलिए, सरकार को अक्षय ऊर्जा क्षेत्र में चुनौतियों का मुकाबला करने के लिए समाधान तलाशना चाहिए जो देश के लिए अधिक आर्थिक और पर्यावरणीय रूप से व्यवहार्य विकल्प प्रदान करता है।

सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र 2 से संबंधित

अंतरराष्ट्रीय संबंध

चीन सुरक्षा समझौता

  • इस आलेख में सोलोमन द्वीप और चीन के बीच हस्ताक्षरित नए सुरक्षा समझौते की व्याख्या की गई है।

इस विषय पर अधिक जानकारी के लिए 20 अप्रैल 2022 का समाचार विश्लेषण पढ़ें।

प्रीलिम्स तथ्य:

  1. डोभाल पहले अंतरराष्ट्रीय खुफिया प्रमुखों की दिल्ली बैठक की अध्यक्षता करेंगे

विषय:अंतर्राष्ट्रीय संबंध

प्रारंभिक परीक्षा: पहले अंतरराष्ट्रीय खुफिया प्रमुखों की बैठक

संदर्भ: राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार पहले अंतरराष्ट्रीय खुफिया विभाग का नेतृत्व करेंगे।

प्रथम अंतरराष्ट्रीय ख़ुफ़िया प्रमुखों की बैठक

  • यह सम्मेलन वार्षिक म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन और सिंगापुर के शांगरी-ला संवाद की तर्ज पर तैयार किया गया है।
  • यह शीर्ष खुफिया और सुरक्षा संगठनों के प्रमुखों और उप प्रमुखों को एक साथ लाने का प्रयास करता है।
  • इस खुफिया बैठक में उन सभी शीर्ष वैश्विक सुरक्षा मुद्दों पर चर्चा होगी जिन्हें दुनिया के लिए तत्काल खतरा माना जाता है, और चीन भी साझा एजेंडे में है।
  • इस सम्मेलन का आयोजन देश की बाह्य खुफिया एजेंसी, रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) और राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय (NSCS) द्वारा किया जा रहा है।
  1. रूस शरद ऋतु तक सरमत मिसाइलों को तैनात करेगा

विषय:रक्षा

प्रारंभिक परीक्षा: सरमत मिसाइल

संदर्भ: रूस ने हाल ही में सरमत अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया, जो संयुक्त राज्य अमेरिका के खिलाफ परमाणु हमले करने में सक्षम हैं।

सरमत के बारे में:

  • सरमत एक अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल (ICBM) है जिसे आम बोलचाल की भाषा में सतन (satan) के नाम से जाना जाता है।
  • इसमें सभी मिसाइल रोधी रक्षा प्रणालियों को चकमा देने की क्षमता है।
  • सरमत 10 या अधिक परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है।
  • यह हजारों मील दूर अमेरिका या यूरोप में लक्ष्य को भेदने में सक्षम है।
  • इस मिसाइल की ऑपरेशनल रेंज 18000 किमी और न्यूनतम रेंज 5,500 किमी है।
  • इन मिसाइलों में किंजल और अवांगार्ड हाइपरसोनिक मिसाइलें भी शामिल हैं।
  • यह अन्य हथियारों के साथ हाइपरसोनिक ग्लाइड वाहन ले जाने में सक्षम है।

पश्चिम की चिंता :

  • सरमत मिसाइल का ऐसे समय में परीक्षण रूस द्वारा ताकत दिखाने का प्रतीक है जब यूक्रेन में युद्ध ने संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगियों के साथ तनाव उत्पन्न कर दिया है।
  • रूस द्वारा यूक्रेन पर आक्रमण शुरू करने के बाद से परमाणु युद्ध के जोखिम पर पश्चिमी की चिंता बढ़ गई है।
  • परमाणु संघर्ष की प्रत्याशा अब संभावना के दायरे में आ गई है।
  1. ब्लू स्ट्रैगलर तारे मानक सिद्धांतों से अलग क्यों है?

विषय:विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी

प्रारंभिक परीक्षा: ब्लू स्ट्रगल

संदर्भ: वैज्ञानिक ब्लू स्ट्रैगलर की अनियतता का अध्ययन कर रहे हैं।

अनियतता इसकी माप है कि निर्धारित आकार की वलयता से वक्र का विचलन कितना हुआ है।

ब्लू स्ट्रैगलर क्या है?

  • ब्लू स्ट्रैगलर एक प्रकार का तारा है जो गोलाकार समूहों और अन्य पुराने, घने तारकीय प्रणालियों में पाया जाता है।
  • ये उल्लेखनीय हैं क्योंकि पुराने तारकीय समूह को छोटे जीवन काल वाले नीले (उच्च-द्रव्यमान) तारों से रहित माना जाता है।
  • परिणामस्वरूप, एक पुरानी तारकीय समूह में नीले रंग के स्ट्रैगलर पूरी तरह से प्रणाली के बाद बने होंगे।

ब्लू स्ट्रैगलर कैसे बनते हैं?

  • एक तारा समूह एक ही बादल से एक ही समय में उत्पन्न हुए तारों का एक समूह है। प्रत्येक तारा अपने द्रव्यमान के आधार पर समय के साथ विकसित होता है।
  • सबसे विशाल और चमकीले तारे विकसित होते हैं और मुख्य अनुक्रम से दूर चले जाते हैं, जिससे उनके रास्ते में एक मोड़ आ जाता है।
  • कुछ तारे पेरेंट क्लस्टर के टर्न ऑफ से अधिक गर्म प्रतीत होते हैं। टर्न ऑफ के ऊपर अभी भी बिखरे हुए ये नीले तारे मूल रूप से समूहों का हिस्सा नहीं होते हैं। उन्हें “ब्लू स्ट्रैगलर” कहा जाता है।
  • ब्लू स्ट्रैगलर उत्पन्न होने की संभावना दो परिदृश्यों में बनती है:
    • जब दो तारे एक दूसरे की ओर अंदर की ओर बढ़ते हैं ।
    • जब दो सितारे आमने-सामने टकराते हैं।

स्त्रोत: https://esahubble.org/

UPSC प्रारंभिक परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न:

प्रश्न 1. राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (National Investigation Agency- NIA) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

  1. राष्ट्रीय जाँच एजेंसी (National Investigation Agency- NIA) के पास भारत के बाहर हुए अनुसूचित अपराधों की जांच करने का अधिकार है।
  2. राष्ट्रीय जाँच एजेंसी राज्यों से अनुमति लिए बिना देश भर में आतंकी मामलों की जांच कर सकती है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

  1. केवल 1
  2. केवल 2
  3. दोनों
  4. इनमें से कोई भी नहीं

उत्तर: c

व्याख्या:

  • राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) भारत सरकार के गृह मंत्रालय के अंतर्गत कार्य करने वाली एक केंद्रीय आतंकवाद रोधी एजेंसी है।
  • राष्ट्रीय जांच एजेंसी नवीनतम वैज्ञानिक तरीकों का उपयोग करते हुए पेशेवर रूप से अनुसूचित अपराधों की जांच कर सकती है। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (संशोधन) अधिनियम 2019 उसके अधिकार क्षेत्र का विस्तार करता है। अब, इसके पास अंतरराष्ट्रीय संधियों और अन्य देशों के घरेलू कानूनों के अधीन भारतीय क्षेत्र के बाहर किए गए अपराधों की जांच करने का अधिकार है। अतः कथन 1 सही है।
  • यह देश में केंद्रीय आतंकवाद रोधी कानून प्रवर्तन एजेंसी है। यह 2008 में मुंबई आतंकी हमले के बाद बनी थी। NIA राज्यों से अनुमति लिए बिना देश भर में आतंकी मामलों की जांच कर सकती है।
  • अतः कथन 2 सही है।

प्रश्न 2. निम्नलिखित में से किस मामले में उच्चतम न्यायालय की संविधान पीठ ने फुटपाथ पर रहने वालों के पक्ष में फैसला सुनाया?

  1. एम.सी. मेहता बनाम भारत संघ
  2. ओल्गा टेलिस और अन्य बनाम बॉम्बे म्युनिसिपल काउंसिल
  3. समता बनाम आंध्र प्रदेश राज्य
  4. SP मित्तल बनाम भारत संघ

उत्तर: b

व्याख्या:

  • ओल्गा टेलिस बनाम बॉम्बे नगर निगम मामले में 1981 में महाराष्ट्र राज्य और बॉम्बे नगर निगम ने फुटपाथ पर रहने वालों और झुग्गियों में रहने वालों को बेदखल करने का फैसला किया।
  • याचिकाकर्ताओं में ज्यादातर झुग्गी-झोपड़ी में रहने वाले, फुटपाथ पर रहने वाले और कुछ सामाजिक रूप से जागरूक पत्रकार शामिल थे। फुटपाथ पर रहने वाले विभिन्न उद्योगों में रोजगार के उद्देश्य से शहर में आए थे तथा उन सड़कों और फुटपाथों पर रहने लगे थे, जहाँ से उनके कार्यस्थल नजदीक पड़ते थे।
  • न्यायालय की टिप्पणियां: न तो संविधान का , न ही मौलिक अधिकारों के मूल्यों में कमी हो सकती है।
  • अत: विकल्प b सही है।

प्रश्न 3. निम्नलिखित युग्मों पर विचार कीजिए:

विवाद संबंधित देश

  1. एजियन (Aegean) ग्रीस और तुर्की
  2. चागोस द्वीप समूह मॉरीशस और यूनाइटेड किंगडम
  3. फ़ॉकलैंड आइलैंड अर्जेंटीना और फ्रांस

उपर्युक्त युग्मों में से कौन-से सुमेलित हैं?

  1. केवल 1 और 2
  2. केवल 2 और 3
  3. केवल 1 और 3
  4. 1, 2 और 3

उत्तर: a

व्याख्या:

  • एजियन विवाद ग्रीस और तुर्की के बीच एजियन सागर के क्षेत्र में संप्रभुता और संबंधित अधिकारों को लेकर विवादों का एक समूह है। अत: युग्म 1 सुमेलित है।
  • चागोस द्वीपसमूह पर संप्रभुता को लेकर मॉरीशस और यूनाइटेड किंगडम में विवाद हैं। मॉरीशस ने कई मौकों पर कहा है कि चागोस द्वीपसमूह उसके क्षेत्र का हिस्सा है। अत: युग्म 2 सुमेलित है।
  • फ़ॉकलैंड द्वीप, दक्षिण-पश्चिम अटलांटिक महासागर में एक विरल आबादी वाला एक ब्रिटिश विदेशी क्षेत्र, अभी भी ब्रिटेन और अर्जेंटीना के बीच एक संप्रभुता विवाद का विषय है। अत: युग्म 3 सुमेलित नहीं है।

प्रश्न 4. हम्पबैक माहसीर/महाशीर (Humpbacked Mahseer) के संदर्भ में निम्नलिखित कथनों में से कौन सा/से सही है/हैं?

  1. यह केवल कावेरी नदी बेसिन में पायी जाती है।
  2. इसकी IUCN स्थिति गंभीर रूप से संकटग्रस्त (Critically Endangered) है।

विकल्प:

  1. केवल 1
  2. केवल 2
  3. दोनों
  4. इनमें से कोई भी नहीं

उत्तर: c

व्याख्या:

  • हम्पबैक माहसीर, जिसे वाटर टाइगर के रूप में भी जाना जाता है, मीठे पानी की एक बड़ी मछली है जो केवल कावेरी नदी के बेसिन में पाई जाती है।
  • IUCN (इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर्स) की लाल सूची के अनुसार हंपबैक गंभीर रूप से संकटग्रस्त है।
  • अतः सभी कथन सही हैं।

PYQ (2021)

प्रश्न 5. भारत के संदर्भ में डीडवाना, कुचामन, सरगोल और खाटू किसके नाम हैं?

  1. हिमनद
  2. गरान (मैंग्रोव) क्षेत्र
  3. रामसर क्षेत्र
  4. लवण झील

उत्तर: d

व्याख्या:

  • डीडवाना एक प्लाया है। प्लाया छोटी झीलें होती हैं जिनमें फर्श समतल और घाटियाँ असिंचित होती हैं जहाँ वर्षा का जल इकट्ठा होता है और वर्षा के बाद तुरंत वाष्पित हो जाता है।
  • कुचामन झील राजस्थान के नागौर जिले में कुचामन शहर के पास एक महाद्वीपीय खारी झील है।
  • कुचामन, सरगोल और खाटू झीलें प्लाया के उदाहरण हैं।
  • अत: विकल्प d सही है।

UPSC मुख्य परीक्षा के लिए अभ्यास प्रश्न :

  1. क्या अक्षय ऊर्जा उभरते बिजली संकट का समाधान है? चर्चा कीजिए। (10 अंक, 150 शब्द) [सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र-3:पर्यावरण और पारिस्थितिकी]
  2. चीन और सोलोमन द्वीप के बीच सुरक्षा समझौता पूरे प्रशांत क्षेत्र की स्थिरता को प्रभावित कर सकता है। परीक्षण कीजिए। (10 अंक, 150 शब्द) [सामान्य अध्ययन प्रश्न पत्र-2:अंतर्राष्ट्रीय संबंध]

Leave a Comment

Your Mobile number and Email id will not be published. Required fields are marked *

*

*